Nationaldunia

लखनउ।

बीते दिनों उत्तर प्रदेश में लोकसभा को लेकर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच 38—38 सीटों पर हुए गठबंधन ने जहां भाजपा की नींद खराब रख दी है, वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली ने दोनों दलों को चौंका दिया है।

सीएम योगी ने सपा—बसपा को निपटाने के लिए कुंभ के मेले से अपनी प्लानिंग शुरू की है। यहां पर मेले की ऐतिहासिक व्यवस्थाओं को देखकर सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि योगी की उड़ान केवल सीएम की कुर्सी तक नहीं रहने वाली, उनकी नजरें काफी आगे हैं।

प्रयागराज में कुंभ मेले की सुविधाओं—कानून व्यवस्था को देखकर यूपी में बाहर से आने वाले लोग भी योगी सरकार की खूब तारीफ कर रहे हैं। इससे न केवल सपा—बसपा की नींद उड़ गई है, बल्कि कांग्रेस की राह और भी कठिन हो गई है।

-विज्ञापन -

आपको बता दें कि प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से 73 सीटें जीतकर बीजेपी ने साल 2014 के दौरान इतिहास बना दिया था। अब इसी इतिहास को दोहराने की जिम्मेदारी योगी आदित्यनाथ सरकार पर है।

यह भी उल्लेखनीय है कि योगी सरकार बीते एक साल से लगातार सपा—बसपा के निशाने पर है, तो दूसरी ओर एनकाउंटर के चलते यूपी में अपराधों में काफी कमी आई है। इसके कारण कानून—व्यवस्था को लेकर भी योगी सरकार की प्रशंसा हो रही है।

भले ही सपा—बसपा के बीच 38—38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का लेकर गठबंधन हो गया हो, लेकिन कांग्रेस पार्टी ने अपने दम पर सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है। जिनमें से 25 सीटों पर मजबूत उम्मीदवार उतारने का निर्णय किया है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।