Nationaldunia

जयपुर।

तीन साल पहले जेएनयू में कथित तौर पर देश विरोधी नारों के आरोप में बीते दिनों दिल्ली पुलिस के द्वारा तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार उनके साथी उमर खालिद, अनिर्बान भट्टाचार्य समेत 36 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया।

देश की अखंड़ता, चिन्हों का अपमान करने के लिए सजा का प्रावधान है। लेकिन इससे भी देश के बड़े नेता भी सीख नहीं लेते हैं। पांच साल बाद झाडू के साथ किए गए तिरंगे के अपमान को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री पर कल ही एक केस दर्ज किया गया है।

ऐसा ही एक मामला सामने आया है कांग्रेसी नेता और खुद को बुद्धिजीवी कहने वाले शशि थरुर के विज्ञापन का। थरुर को लेकर जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के लिए आज के एक बड़े अखबार में विज्ञापन प्रकाशित हुआ है, जिसमें शशि थरुर की जैकेट पर उल्टा तिरंगा लगा हुआ है।

यह विज्ञापन प्रकाशित होने के बाद जयपुर ही नहीं, बल्कि राज्यभर के पाठकों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। पाठकों ने अखबार के कार्यालय में फोन कर इसको लेकर एतराज जताया है, तो दूसरी ओर विज्ञापन देने वाले जेएलएफ के कर्ताधर्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाएने तैयारी की जा चुकी है।