sachin pilot
sachin pilot

रानीवाड़ा/सांचोर/जालोर।
उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि हमारी सरकार सेवक बनकर आमजन के हित में काम करेगी। जालोर सहित प्रदेशभर में पहले से अधिक विकास के कार्य होंगे और पहले से अधिक गति से होंगे।

पायलट रविवार को जालोर जिले की रानीवाड़ा पंचायत समिति में आमजन को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पेयजल की समस्या के समाधान के लिए नर्मदा नदी की परियोजना को आगे बढ़ाने के लिए राज्य स्तर पर काम किया जाएगा।

ताकि जालोर को शीघ्र से शीघ्र नर्मदा का पानी मिल सके। उन्होंने कहा कि विकास के कार्यों को न्यायपूर्ण तरीकों से आगे ले जाया जाएगा।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जालोर जिले में सड़क विकास तथा ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज से जुड़े जो भी विकास कार्य हैं उन्हें पूरा करने में वित्तीय संसाधनों की कमी नहीं आने दी जाएगी। साथ ही महात्मा गांधी नरेगा योजना को और अधिक प्रभावी बनाते हुए अधिक से अधिक लोगों तक इससे लाभान्वित करने का प्रयास किया जाएगा।

पायलट ने कहा कि विकास के साथ-साथ सामाजिक सुधारों की भी आवश्यकता है। इसके लिए जिला स्तर पर अभियान चला कर नशा-मुक्ति के लिए काम किया जाना चाहिए। इस पुनीत कार्य में धार्मिक संगठनों, सामाजिक संगठनों और स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग लिया जाए।

उप मुख्यमंत्री ने इसके बाद सांचोर स्थित डाक बंगले में जनसमूह को सम्बोधित करते हुए कहा कि वे सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन की स्थिति का जायजा लेने के लिए तथा इन्हें गति प्रदान करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं।

उन्होंने आश्वस्त किया कि पानी, बिजली, सड़क एवं गौशालाओं के लिए अनुदान एवं विकास से जुड़े किसी भी कार्य में वित्तीय संसाधनों की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जनता से जुड़े विकास के काम बिना भेदभाव के किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में पेयजल की समस्या को बेहतर तरीके से हल किए जाने के पूरे प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने अधिकारियों को भी निर्देश दिए कि पेयजल से जुड़े किसी भी विषय में कोई भी लापरवाही नहीं बरती जाए।

इसके बाद पायलट ने आमजन की सुनवाई की तथा समीक्षा बैठकों में सम्बंधित अधिकारियों को मौके पर समस्याओं के समाधान के निर्देश दिए।

इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी, वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम विश्नोई, पूर्व मंत्री अर्जुन सिंह देवड़ा, पूर्व विधायक रतन देवासी एवं समरजीत सिंह, रानीवाड़ा प्रधान रमीला मेघवाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास राजेश्वर सिंह,

अतिरिक्त मुख्य सचिव पीडब्ल्यूडी वीनू गुप्ता, मनरेगा आयुक्त पी.सी. किशन, पीडब्ल्यूडी सचिव एमजी. माहेश्वरी, पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत, अतिरिक्त जिला कलक्टर छगनलाल गोयल, जिला परिषद सीईओ अशोक कुमार तथा अन्य जनप्रतिनिधिगण, विभागीय अधिकारी एवं ब्लाॅक स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।