ashok gehlot sachin pilot
ashok gehlot sachin pilot

-सत्ता प्राप्त करने की ये कैसी राजनीति।

रामगोपाल जाट

राजनीति में विवादित बयान देना एक परंपरा सी बनती जा रही है। लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती, समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान और मेनका गांधी को विवादित बयान देने के कारण चुनाव आयोग ने प्रतिबंधित किया है।

वर्तमान लोकसभा चुनाव में यह पहला अवसर है, जब चुनाव आयोग ने शक्ति दिखाते हुए राष्ट्रीय नेताओं को प्रतिबंधित किया, लेकिन एक बयान ऐसा भी आया है जो सीधे राष्ट्रपति को लेकर है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के बड़े नेता माने जाने वाले अशोक गहलोत ने भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लेकर विवादित टिप्पणी की है।

गहलोत के इस बयान के बाद सियासत में उबाल आ गया है। भारतीय जनता पार्टी ने इस को शर्मनाक करार दिया है, तो कांग्रेस पार्टी रक्षात्मक स्थिति में दिखाई दे रही है।

इस बीच तकरीबन 8 साल पुराना वह बयान भी फिर से चर्चाओं में आ गया है, जो राजस्थान के तत्कालीन मंत्री अमीन खान ने तब की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को लेकर दिया था।

अशोक गहलोत सरकार में तत्कालीन मंत्री अमीन खान के बयान के बाद उनको मंत्री पद से हाथ धोना पड़ा था। तब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही हुआ करते थे। उन्होंने तुरंत प्रभाव से उस बयान को अमर्यादित करार देते हुए अपने मंत्री से इस्तीफा मांग लिया था।

अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लेकर कहा है कि भाजपा ने एक दलित समाज के व्यक्ति रामनाथ कोविंद को इसलिए राष्ट्रपति बनाया है, ताकि चुनाव में फायदा लिया जा सके।

तब में, और अब में फर्क केवल इतना है कि प्रतिभा पाटिल को राष्ट्रपति बनाने वाली कांग्रेस पार्टी थी, और अब वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद के लिए चुनने में अहम भूमिका निभाने वाली भारतीय जनता पार्टी है।

बता दें कि 11 फरवरी 2011 को राजस्थान के तत्कालीन पंचायतीराज एवं वक्फ राज्य मंत्री अमीन खां को 3 दिन के भीतर अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सौंपना पड़ा था।

उल्लेखनीय है कि अमीन खां ने 8 फरवरो 2011 को राजस्थान के पाली जिले में एक कार्यकर्ता सम्मेलन में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के बारे में कथित अमर्यादित टिप्पणी की थी।

तब मंत्री अमीन खान ने तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को लेकर कहा था कि कांग्रेस में जो भी पार्टी की सेवा करता है, उसको ऊंचे पद पर सुशोभित किया जाता है।

प्रतिभा पाटिल को लेकर अमीन खान ने कहा था कि वह इंदिरा गांधी की रसोई में खाना बनाने का काम करती थीं। पार्टी की इसी सेवा का परिणाम है कि आज वह राष्ट्रपति पद पर पहुंची हैं।

साल 2008 से 2013 की पिछली कांग्रेस सरकार में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल पर विवादित बयान देने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी सरकार के मंत्री अमीन खान को हटा दिया था।

सवाल यह उठता है कि आज खुद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लेकर जो बयान दिया है, क्या अब वह खुद भी अपना इस्तीफा देंगे?

आपको बता दें, तब में और अब में फर्क इतना ही है कि तब राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल कांग्रेस पार्टी द्वारा वोट कर चुनीं हुईं थीं, और अब प्रेसिडेंट रामनाथ कोविंद बीजेपी के समर्थन से चुने हुए हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।