sunil arora CEC of india
sunil arora CEC of india

Jaipur news.

चुनाव आयोग द्वारा रविवार को लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया। सात चरण में होने वाले आम चुनाव के लिए राजनीतिक दलों ने अपनी अपनी प्रतिक्रिया दी हैं।

जनता पार्टी अधिक से अधिक संख्या में मतदान करने की अपील की, वहीं विपक्ष की ओर से तकरीबन सभी सियासी दलों ने चुनाव आयोग की नीयत पर सवाल खड़ा कर दिया।

कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, आम आदमी पार्टी समेत सभी विपक्षियों ने रमजान के महीने में चुनाव को लेकर चुनाव आयोग पर तोहमत मढ़ी।

इधर, हैदराबाद से सांसद अससुद्दीन ओवैसी ने इसको भी राजनीति बताया है। उन्होंने कहा है कि जब मुसलमान रमजान के महीने में अन्य सारे काम कर सकता है तो वोट क्यों नहीं कर सकता।

यह पहली बार नहीं है कि किसी त्यौहार के वक्त चुनाव हो रहे हैं। राजस्थान में पिछला विधानसभा चुनाव अमावस के दिन हुआ था, जबकि चुनाव यहां पर धनतेरस के दिन के हो चुके हैं।

हिंदू संगठनों ने बिना वजह की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मतदान करने के लिए हिंदू वोटिंग करने के लिए घर से निकल सकते हैं, तो फिर रमजान के महीने में मुस्लिम क्यों नहीं निकल सकते।

दरअसल लोकसभा चुनाव ऐसे वक्त होने जा रहे हैं। रमजान का महीना रहेगा। ऐसे में व्रत रखने वाले मुस्लिम समुदाय के लोग घर से नहीं निकलेंगे, ऐसा विपक्षी पार्टियों के द्वारा कहा जा रहा है।

सियासी पार्टियों के इस बयान पर चुनाव आयोग ने साफ कहा है कि लोकसभा चुनाव रमजान के लिए एक महीना आगे नहीं बढ़ाया जा सकता।