वसुंधरा की BJP, पायलट-गहलोत की कांग्रेस और बेनीवाल की RLP इतनी सीट जीतेंगी-

1196
nationaldunia
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर।

चुनाव में महज 4 दिन शेष हैं। इस बीच कांग्रेस पार्टी ‘बदलेगा राजस्थान…’ के साथ जहां अपनी जीत का दावा कर रही है, वहीं भाजपा ‘वसुंधरा फिर से…’ वाले स्लोगन के साथ सत्ता में लौटने का दावा कर रही है।

इस बीच ‘बोतल का होगा निशान, बदलेगा राजस्थान….’ के साथ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने भी अपने 57 उम्मीदवारों के दम पर एलान किया है कि राज्य में या तो सरकार उनके सहयोग से बनेगी, या किसी को बहुमत नहीं मिलेगा, जिससे फिर चुनाव होंगे।

दोनों मुख्य दलों के दावे और बेनीवाल के एलान के बीच निर्दलीयों का गणित भी प्रदेश के चुनाव परिणाम को प्रभावित करने के लिए बहुत कुछ कह रहा है।

बेनीवाल का दावा है कि उनकी पार्टी के दावा टिकट देकर उतारे गए राज्य के 57 उम्मीदवारों में से उनके 50 प्रत्याशी जीतकर आएंगे। यह आंकड़ा किसी भी पार्टी की सरकार नहीं बनने देगा, यदि उनका सहयोग नहीं लिया तो।

इधर, कांग्रेस खुद के 195 प्रत्याशियों में से 130 की जीता हुआ मान रही है। शेष 5 उम्मीदवार सहयोगी दलों के दम पर जीतने का दम भर रही है। सट्टा बाजार भी फ़िलहाल कांग्रेस को जिताऊ बता रहा है। साथ ही लगातार स्थितियों के बदलने की बात भी कही जा रही है।

बीजेपी के ताजा सर्वे ने कांग्रेस की नींद उड़ा दी है। भाजपा के अनुसार आज की तारीख में पार्टी को 112-115 सीट पर जीत मिल रही है। सट्टा बाजार बीजेपी को 45-48 से 65-80 तक ले आया है। अंतिम सप्ताह बचा है, और राज्य के वोटिंग इतिहास का समीकरण इसी लास्ट वीक पर निर्भर करता है।

खैर! निष्पक्ष रूप से आंकलन कर चुनाव के प्री पोल नतीजे बताने वालों की बात पर भरोसा करें तो फ़िलहाल कांग्रेस मजबूत है, लेकिन साथ ही बेनीवाल की पार्टी द्वारा कांग्रेस को तगड़ा नुकसान करने का दावा भी कर रहे हैं।

ऐसे दावेदार कहते हैं कि बेनीवाल और घनश्याम तिवाड़ी के उम्मीदवार 10-15 सीट जीतने और कम से कम 30 विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को बुरी तरह प्रभावित करने का काम करेंगे। ऐसे में कहना गलत नहीं होगा कि 7 दिसम्बर को मतदान और 11 को आने वाले रिजल्ट ही सही सही बात बता पाएंगे।