भरतपुर।

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और भरतपुर जिले के डीग-कुम्हेर से कांग्रेस से प्रत्याशी विश्वेंद्र सिंह के सीने पर स्थानीय एसपी केसर सिंह शेखावत द्वारा बंदूक तानने का आरोप लगाया गया है।

इस दौरान विश्वेंद्र सिंह के साथ उनके बेटे अनिरुद्ध सिंह और विश्वेंद्र सिंह के समर्थक बड़ी संख्या में मौजूद थे।

बताया जा रहा है की मतदान के दूसरे दिन शनिवार को ईवीएम मशीनों को स्ट्रांग रूम में रखने की बात को लेकर विवाद हो गया था। इस दौरान विश्वेंद्र के बेटे अनिरुद्ध सिंह मौके पर पहुंचे और उन्होंने वहां ईवीएम की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की थी।

बताया जा रहा है कि अनिरुद्ध सिंह और मौके पर मौजूद आरसीए के जवानों के बीच काफी देर तक माथा फोड़ी होती रही। इस बीच खुद विश्वेंद्र सिंह भी मौके पर पहुंच गए। मामला बढ़ा और जवानों के साथ उनकी झड़प हुई बताई जा रही है।

इस घटना की सूचना पर स्थानीय पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत और जिला निर्वाचन अधिकारी नायक भी आ गए। दोनों पक्षों में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर बातचीत हुई।

कांग्रेस और राष्ट्रीय लोक दल के संयुक्त प्रत्याशी डॉ सुभाष गर्ग के अलावा बहुत सारे लोग एकत्रित हो गए। दोनों पक्षों के बीच बातचीत हो रही थी, लेकिन विश्वेंद्र सिंह ने आरोप लगाया है कि बहस के बीच एसपी केसर सिंह शेखावत ने उनके सीने पर बंदूक तान दी।

इस मामले में विश्वेंद्र सिंह ने प्रेस वार्ता कर जिला निर्वाचन अधिकारी और स्थानीय एसपी केसर सिंह पर आरोप लगाते हुए पुलिस अधीक्षक का तबादला करने की मांग की है।

जिला निर्वाचन अधिकारी का कहना है कि स्ट्रांग रूम और उसके आसपास के परिसर की पूर्ण सुरक्षा है। विधायक के पुत्र ने मौके पर परिसर में पहुंच सुरक्षा व्यवस्था में ढिलाई की बात कही, जिनका आरएसी जवान से झगड़ा हो गया। बाद में प्रत्याशी विश्वेन्द्र सिंह भी पहुंच गए, उनके साथ समर्थक भी थे। जिन्हें सुरक्षा का पूर्ण भरोसा दिया है।

जिला निर्वाचन अधिकारी से शिकायत के बाद अब भारतपुर में मतगणना के दौरान एसपी केसर सिंह शेखावत मौजूद नहीं रहेंगे। उनकी जगह रेंज आईजी मालिनी अग्रवाल की देखरेख में मतगणना की जाएगी।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।