विफा ने पायलट-सैनी को सौंपा ब्राह्मणों का मांग पत्र

13
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary

जयपुर। विप्र फाउंडेशन ने दोनों प्रमुख राजनैतिक दलों कांग्रेस-भाजपा के मुखियाओं से भेंट कर ब्राह्मण समाज की प्रमुख ग्यारह सूत्री मांगों से अवगत कराया है।

राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पॉयलट से गुरुवार को नई दिल्ली और राजस्थान भाजपा अध्यक्ष मदनलाल सैनी से बुधवार को विफा के प्रतिनिधिमंडलों ने मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में वेदलक्षणा गौमाता के पोषण, संरक्षण, संवर्द्धन, गौसेवक सम्मान, आर्थिक रूप से कमजोर सवर्ण समाज के लिये 14 प्रतिशत आरक्षण एवं पदोन्नति में आरक्षण समाप्ति, सरकारी व निजी क्षेत्रों में बालिका शिक्षा पूर्णतया निःशुल्क, अनारक्षित वर्ग के युवाओं को उद्योगों की स्थापना हेतु भूमि व ऋण की व्यवस्था करने की अपील की गई।

इसके साथ ही कर्मकांडी ब्राह्मणों के निःशुल्क प्रशिक्षण की व्यवस्था, भगवान परशुराम विश्वविद्यालय की स्थापना, अस्पृश्यता व जातिवाद के नाम पर दर्ज मुकदमों की समीक्षा, फर्जी मुकदमे दर्ज करवाने वालों के खिलाफ कार्रवाई, अपराध निर्धारण का आधार मात्र आरोप नहीं बल्कि उचित जांच करवाकर किया जाने की मांग की गई है।

विफा ने संस्कारोदय योजना, 100 करोड़ के आरंभिक कोष के साथ विप्र विकास परिषद की स्थापना, सन्तों की अगुवाई में सांस्कृतिक और आध्यात्मिक धरोहरों के संरक्षण आदि प्रमुख मांगों को शामिल किया गया है।

नई दिल्ली में पायलट से मुलाकात करनेवाले प्रतिनिधियों में विफा के संस्थापक संयोजक सुशील ओझा, संरक्षक हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा, राष्ट्रीय महामंत्री सुनील शर्मा व पवन पारीक, राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष देवीशंकर शर्मा, खेल प्रकोष्ठ के प्रशांत पारीक शामिल थे।

जबकि, मदनलाल सैनी को प्रदेशाध्यक्ष पँ. देवीशंकर शर्मा और जयपुर जिलाध्यक्ष केदार शर्मा ने ज्ञापन सौंपा। दोनों नेताओं से प्रदेश में सरकार बनने पर इन मांगों को पूरा करने की अपील की है। जिसको दोनों अध्यक्षों ने स्वीकार कर सकारात्मक कदम उठाने का आश्वासन दिया है।

और खबरों के लिए फेसबुक और ट्वीटर और यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।