Jaipur

बीते बारह तेरा साल के दौरान राजस्थान में 24 हजार के करीब विद्यार्थी मित्रों में से एक छात्र की जान जा चुकी है।

इसके बावजूद आज तक सरकार का दिल नहीं पसीजा। आज विद्यार्थी मित्र राजस्थान विधानसभा का घेराव करने जा रहे हैं।

विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायक करेंगे विधानसभा का घेराव, स्थायीकरण की मांग को लेकर के राजस्थान विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायक संघ के बैनर तले 27,000 पंचायत सहायक 8 जुलाई को करेंगे विधानसभा का घेराव।

राजस्थान के तमाम विधायकों ने विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायकों की मांगों को ठहराया जायज और स्थाई समाधान के लिए सरकार को लिखा पत्र है।

विद्यार्थी मित्र पिछले 13-14 सालों से लगातार रोजगार को लेकर आंदोलनरत हैं। इस दौरान विद्यार्थी मित्रों पर अनेक बार लाठी चार्ज हुआ मुकदमे दर्ज किए गए, उसके बावजूद भी आज तक स्थाई समाधान नहीं हो पाया है।

सरकार के स्तर पर जो भी भर्तियां निकाली गई, वह न्यायालय की भेंट चढ़ गई। वर्तमान में पंचायत सहायकों की जो स्थिति है, वह भी बेहद डांवाडोल और खतरनाक है। रोजगार के सदमे को लेकर के अब तक 57 विद्यार्थी मित्र स्वर्गवासी हो चुके हैं।

वर्तमान कांग्रेस सरकार और पूर्व भाजपा सरकार ने बड़े जोर शोर से अपने चुनावी घोषणा पत्र में विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायकों के साथ तमाम संविदा कर्मियों को स्थाई करने का पुरजोर वादा किया था।

स्थायीकरण तो दूर की बात है, अभी तक संविदा कर्मियों की समस्याओं का समाधान भी नहीं हुआ है, जो टूटा फूटा मानदेय दिया जा रहा है। उसका भुगतान भी कभी 8 महीने से कभी 12 महीनों से हो रहा है।

स्थायीकरण की मांग को लेकर के अब विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायक आर-पार की लड़ाई के मूड में और इसी को लेकर 8 जुलाई को प्रदेशाध्यक्ष नरेंद्र चौधरी के नेतृत्व में विधानसभा का घेराव किया जाएगा।