rajasthan vivi kulpati ki kursi par student betha
rajasthan vivi kulpati ki kursi par student betha

जयपुर।
राजस्थान विश्वविद्यालय में गुरुवार को अजीब वाकया घटित हुआ। जानकारी के अनुसार अनियमितताओं के आरोप के चलते जांच का सामना कर रहे राजस्थान विवि के कुल प्रो. आरके कोठारी छुट्टियों पर चल रहे हैं, वो अपना काम कार्यालय के बजाए घर से निपटा रहे हैं। Video

इधर, एमपेट के एग्जाम को लेकर शिकायतों की सुनवाई नहीं होने के कारण अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्रनेता सज्जन सैनी ने कुलपति की अनुपस्थिति में वाइस चांसलर की कुर्सी पर कब्जा कर लिया।

इतना ही नहीं, अपनी एप्लीकेशन भी कुलपति की कुर्सी पर बैठकर सज्जन सैनी ने एमपेट के कन्वीनर को जल्द से जल्द निपटाने के लिये रेफर कर दी।

इस दौरान कुलपति कक्ष में केवल छात्र मौजूद थे। जब इस घटना की भनक चीफ प्रोक्टर डॉ. एचएस पलसानिया को लगी तो वो दौड़ते हुये गये और छात्र सज्जन सैनी को कुलपति की सीट से उतरने को कहा।

इस दौरान दोनों के बीच बहस भी हुई और घटना का सारा वीडियो वहीं पर मौजूद एक छात्र ने बना लिया। हालांकि, खुद चीफ प्रोक्टर पलसानिया भी सज्जन को फोटों खींचने और कार्रवाई करने की धमकी देते हुये वीडियो में दिखाई दे रहे हैं।

जानकारों का कहना है कि इस तरह से कुलपति की कुर्सी पर छात्र के बैठने का यह दूसरा मामला है। इससे पहले करीब 15 साल पूर्व भी एक महासचिव ने छात्रों की समस्याओं को लेकर कुलपति को उठाकर खुद कुर्सी पर बैठ गये थे।

इस प्रकरण को लेकर नेशनल दुनिया ने कुलपति प्रो. आरके कोठारी से बात करने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। दूसरी तरफ घटना को अंजाम देने वाले सज्जन सैनी का कहना है कि ‘राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति को नैतिकता के नाते इस्तीफा दे देना चाहिए, क्योंकि कांग्रेस सरकार नहीं चाहती कि राजस्थान विश्वविद्यालय का कुलपति छात्र-छात्राओं का काम करें।’

‘पिछले 10 दिन से कुलपति सचिवालय नहीं आ रहे हैं, उन पर दबाव बनाया जा रहा है कि आप विश्वविद्यालय नहीं आयें, क्या यह सही है? फिर आम विद्यार्थी का काम कैसे होगा, कौन करेगा काम?’

‘पिछले सप्ताह सिंडिकेट मीटिंग अचानक बुलाई गई, जिसमें बजट भी पास नहीं हुआ। अधिकारियों, कर्मचारियों, प्रोफेसरों और छात्र-छात्राओं के काम नहीं हो रहे हैं, क्या यह उचित है?’

‘कुलपति की कुर्सी पर आज मुझे भी बैठने का अवसर मिला, क्योंकि मैं खुद भी शोध प्रवेश परीक्षा को लेकर परेशान हूं, मैंने यहीं से बीकॉम की है और यहीं से एमकॉम की है, उसके बावजूद मुझे शोध करने का अवसर नहीं मिल रहा है, उसी को लेकर मैं बार-बार शोध कन्वीनर और कुलपति को ज्ञापन दे चुका हूं, लेकिन अभी तक भी मेरे विषय (ABST) की शोध प्रवेश परीक्षा नहीं हुई है, मैं परेशान हूं और अन्य छात्र भी परेशान हैं।’