कुलपति-कुलसचिव में अदावत, नास्ते पर आकर डटी

2
nationaldunia
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

-रजिस्ट्रार ने रोका कुलपति सचिवालय का नास्ता, तीन गार्ड भी हटा दिए

जयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय में इन दिनों कुलपति-कुलसचिव के बीच अधिकारों की अदावत चल रही है। पहले एक कर्मचारी को लगाने और हटाने को लेकर दोनों के बीच खूब शीतयुद्ध चला, अब दोनों के बीच नास्ता कम करने और गार्डों की संख्या घटाने तक पर बात आ गई।

मामला कुलपति सचिवालय में होने वाली मीटिंग्स का है। मीटिंग के बाद उपस्थित लोगों के लिए चाय-नास्ते का प्रबंध किया जाता है। लेकिन कुलसचिव को यह बात नागवार गुजरी।

कुलसचिव केसरलाल मीणा ने एक आदेश जारी कर इस तरह के नास्ते पर रोक लगा दी। उन्होंने कहा कि जो मीटिंग में मौजूद होगा, केवल उसी को चाय-नास्ता दिया जाएगा।

मीटिंग में नहीं होने वाले किसी भी कर्मचारी को चाय-नास्ता नहीं दिया जाए। इस बात का पता कुलपति आरके कोठारी को चला तो उन्होंने अपने आदेश से चाय-नस्ता मंगवाने का प्रबंध कर दिया।

तीन गार्ड थे, दो हटा दिए

इसके साथ ही अधिकारिक तौर पर प्रशासनिक अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए कुलसचिव ने कुलपति सचिवालय में तैनात तीन में से दो गार्ड हटा दिए, केवल एक गार्ड ही रखने का आदेश दिए है। इसको लेकर भी दोनों अधिकारियों के बीच अदावत चल रही है।

किसके क्या होते हैं अधिकार

नियमानुसार कुलसचिव विवि का उच्च प्रशासनिक अधिकारी होता है। ऐसे में प्रशासन से संबंधित सभी अधिकार रजिस्ट्रार के पास होते हैं। कुलपति विवि का उच्चतम अधिकारी होता है।

ऐसे में फाइनल अथॉरिटी कुलपति ही होते हैं। लेकिन कुलपति इन अधिकारियों का इस्तेमाल वीटो पावर से ही कर सकते हैं।