कुलपति ने दिया दीक्षान्त समारोह का तोहफा: महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय भरतपुर के पाठ्यक्रमों की फीस में 20 से 25 प्रतिशत तक कटौती की।

jaipur/bharatpur
एक ओर जहां देश में शिक्षा महंगी होती जा रही है, वहीं राजस्थान का एक विश्वविद्यालय ऐसा भी है, जिसने फीस में 20 से 25 फीसदी तक की कटौती कर नायाब उदाहरण पेश किया है। खास बात यह है कि यह विवि सरकारी है।

महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय भरतपुर में 28 जून 2019 को आयोजित होने वाले प्रथम दीक्षान्त समारोह के पहले विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अश्वनी कुमार बंसल ने यहां पर संचालित पाठ्यक्रमों की फीस में 20 से 25 प्रतिशत तक की कटौती की है। उन्होंने कहा कि हम आगे भी इसका श्रम करते रहेंगे।

विश्वविद्यालय द्वारा संचालित स्नातकोत्तर चित्रकला, स्नातकोत्तर/एम.एस.सी, गृह-विज्ञान में 16 हजार रुपयों के बदले 12 हजार रुपये फीस जमा करानी होगी। इसका मतलब यह हुआ कि इस फीस में 25 प्रतिशत की कमी की है। हालांकि, विवि ने साफ किया है कि वार्षिक शुल्क वैसे ही रहेंगे।

इसी वर्ष से संचालित हो रहे नवीन पाठ्यक्रमों एम.एस.सी. गणित, एम.एस.सी. कम्प्यूटर साइन्स और एम.एस.सी. operational रिसर्च पाठयक्रमों की फीस, जो board of meeting (BOM) द्वारा निर्धारित की गई थी, उसमें से 20 प्रतिशत तक की कमी की गई है।

एम.एस.सी. operational रिसर्च कोर्स पूरे राज्य में इसी विश्वविद्यालय द्वारा सबसे पहले प्रारम्भ किया जाने वाला कोर्स है। इसी प्रकार एलएल.एम. एक वर्षीय कोर्स भी राजकीय विश्वविद्यालयों में केवल इस विश्वविद्यालय द्वारा प्रारम्भ किया गया था।

विधि के कोर्स की फीस पहले से ही जोधपुर के जय नारायण विश्वविद्यालय से एक तिहाई और जयपुर के राजस्थान विश्वविद्यालय से 30 प्रतिशत कम है। इस कोर्स में निरीक्षण टीम पूर्णत: संतुष्ट होकर गई थी और bar council of india (BCI) से निरीक्षण के प्रति कोई नकारात्मक टिप्पणी नहीं है।

विवि के कुलपति प्रो. अश्विनी कुमार बंसल का कहना है कि उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने की नियत से और छात्रों के लिए उपयोगी व आधुनिक पाठ्यक्रमों के प्रति छात्रों का रूझान बढ़ाने के लिये यह कदम उठाया गया है। इससे छात्रों की संख्या में वृद्धि होने का विश्वास है।