Surendra and Gajananad caught in decoy operation
Surendra and Gajananad caught in decoy operation

—आरोपी गजानन्द तथाकथित फरार चिकित्सक के माध्यम से अब तक 400 से अधिक गर्भवती महिलाओं की करवा चुका है भ्रूण लिंग जांच

। स्टेट पीसीपीएनडीटी टीम द्वारा शनिवार को झुंझुनूं के खेतडी में डिकॉय कार्रवाई में भ्रूण लिंग परीक्षण मे मामले में लिप्त गिरफ्तार आरोपी दलाल नीमकाथाना में ढाणी बडबाला निवासी 29 वर्षीय गजानन्द पुत्र केदारमल गुर्जर एवं अन्य व्यक्ति सुरेन्द्र कुमार को रविवार को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से दोनों आरोपियों को दो दिन की पुलिस रिमांड पर सौंपने के आदेश दिये हैं।

अब तक हुयी पूछताछ में आरोपी गजानन्द ने तथाकथित फरार चिकित्सक अवधेश पांडे के माध्यम से अब तक 400 से अधिक गर्भवती महिलाओं की भ्रूण लिंग जांच करवाने की बात कबूली है। फरार तथाकथित चिकित्सक अवधेश पांडे की तलाश की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनीडीटी एवं मिशन निदेशक एनएचएम डॉ. समित शर्मा के निर्देशों पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शालिनी सक्सेना के नेतृत्व में शनिवार को हुई कार्रवाई में दलाल गजानन्द के अलावा भ्रूण लिंग परीक्षण के लिए दबाव बनाकर जांच करवाने के मामले में एक गर्भवती के भाई सुरेन्द्र कुमार को भी गिरफ्तार किया गया था। साथ ही 15 हजार के हू-ब-हू नम्बरी नोट बरामद किये गये थे।

ज्ञातव्य है कि झुंझनूं जिले के खेतड़ी क्षेत्र में एक गिरोह द्वारा भ्रूण लिंग जांच करने की शिकायत पर टीम ने कार्रवाई को अंजाम दिया।

दलाल गजानन्द ने 25 हजार रुपये में भ्रूण लिंग जांच करने बात तय कर डिकॉय गर्भवती महिला को शनिवार को नीमकाथाना में कपिल अस्पताल के पास बुलाया।

यहां पहुंचने के बाद एक स्विफ्ट कार आई, जिसमें दलाल ने डिकॉय गर्भवती व सहयोगी को बैठा लिया। कार में पहले से ही एक अन्य गर्भवती महिला एवं उसका भाई, जिसका नाम सुरेन्द्र कुमार है, वह कार चला रहा था।

दलाल कार से झुंझनूं के खेतड़ी में तातेजा गांव में एक सुनसान जगह पर लेकर आया। वहां पहुंचने के बाद एक स्कूटी पर तथाकथित चिकित्सक अवधेश पांडे आया, उसके साथ ही एक दिल्ली नम्बर की स्विफ्ट कार भी आई।

अवधेश ने अनाधिकृत पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीन से कार में ही डिकॉय महिला एवं अन्य दूसरी महिला की सोनोग्राफी कर भ्रूण लिंग के बारे में जानकारी दी।

इसके बाद टीम ने दलाल गजानन्द एवं सुरेन्द्र को पीसीपीएनडीटी एक्ट के प्रावधानों के तहत भ्रूण लिंग परीक्षण के लिए दबाव बनाकर जांच करवाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।

मुख्य आरोपी अवधेश पांडे एवं उसके अन्य सहयोगी चकमा देकर फरार हो गये। उल्लेखनीय है कि अवधेश पांडे पहले से ही भ्रूण लिंग परीक्षण के मामलों में वांछित चल रहा है।

टीम ने दलाल गजानन्द से भ्रूण लिंग परीक्षण हेतु दिये गये हू-ब-हू नम्बरी नोट बरामद एवं स्विफ्ट कार जब्त कर ली।