जयपुर।
जयपुर के एक स्कूल ने अपना वादा निभाते हुए स्कूल टॉपर को चमचमाती हुई कार गिफ्ट में दी है।

दरअसल, 21 साल पहले शुरू हुए इस स्कूल का रिजल्ट कभी भी 90 फीसदी से अधिक नहीं गया था।

ऐसे में स्कूल प्रबंधन ने 10वीं और 12वीं की कक्षा में सबसे ज्यादा अंक लाने वाले अपने स्कूल के विद्यार्थी को इनाम में कार देकर सम्मानित करने का ऐलन कर दिया था।

जब रिजल्ट आया तो स्कूल ने अपना वादा भी निभाया। कार के इनाम को अपने नाम करने का जज्बा ही कहा जाएगा की स्कूल में 70 छात्रों ने बोर्ड की परीक्षा दी थी, उनमें से 33 विद्यार्थी मेरिट से बोर्ड की परीक्षा पास की।

जयपुर के कालवाड स्थित स्मार्ट किड्स सीनियर सेकेंडरी की छात्रा अंजू कंवर, अंजू के पिता होमगार्ड में हैं।

अंजू कवंर बताती हैं कि अपनी खुद की चमचमाती कार में बैठने का सपना बहुत पहले से था, जो अब पूरा भी हो गया।

दूसरे बच्चों की तरह अंजू ने भी सुन रखा था की बोर्ड की परीक्षा में सबसे ज्यादा अंक लाने वाले विद्यार्थी को स्कूल प्रबंधन चमचमाती हुई कार देने वाला है।

ऐसे में बाकी बच्चों की तरह अंजू कंवर ने भी मन लगाकर पढाई की और 10वीं बोर्ड की परीक्षा में 95.50 फीसदी अंक हांसिल कर सबको पछाड़ दिया।

अब अंजू कंवर स्कूल प्रशासन की ओर से की गई घोषणा के तहत मेरिट में आने पर चमचमाती हुई कार की हकदार बन गईं।

अंजू अब मेरिट में आने और चमचमाती हुई कार में बैठने के अपने दो- दो सपनों के एक साथ पूरा होने की जमकर ख़ुशी मना रही हैं।

दरअसल इस स्कूल को खुले 21 साल पुरे हो चुके थे, लेकिन किसी ने भी आज तक 90 फीसदी से ज्यादा अंक हासिल नहीं लिए।

ऐसे में यहां पढने वाले बच्चों को प्रतोसाहित करने के लिए स्कूल प्रसाशन की ओर से सत्र शुरू होने के साथ ही बोर्ड की परीक्षा में टॉप आने वाले विधार्थी को कार देने का ऐलान कर दिया गया।

बस फिर क्या था, बच्चे भी ना केवल समय पर स्कूल आने लगे, बल्कि पढाई में और भी गहरी रूचि दिखने लगे।

नतीजा यह निकला, कि अकेले दसवीं कक्षा की परीक्षा देने वाले 38 में से 33 विद्यार्थियों ने 60 फीसदी से ज्यादा अंक हांसिल कर लिए।

अपनी इस पहली और अनूठी पहल की सफलता से उत्साहित स्कूल प्रसाशन ने अब अगले साल से बोर्ड की परीक्षा में मेरिट में आने वाले 10 विद्यार्थियों को स्कूटी देने का एलान किया है।

स्कूल के निर्देशक हनुमंत शेखावत बताते हैं कि अगली बार से एक ही कार की बजाय मेरिट में आने वाले स्कूल के 10 बच्चों को स्कूटी इनाम में देंगे।

अंजू कंवर को कार क्या मिली उसके साथ परीक्षा देने वाले कुछ बच्चों के चेहरे उतर गए तो कुछ ने अगली बोर्ड की परीक्षा में और भी बेहतर अंक लाने के लिए अभी से संकल्प ले लिया है।

अंजू के स्कूल की साथियों ने अपनी सफलता के साथ साथ किसी विधार्थी को कार गिफ्ट मिलने की ख़ुशी का भी भरपूर इजहार किया है।

जाहिर है की प्राईवेट स्कूलों पर हमेशा से ही अभिभावकों से मोटी फीस वसूलने, किंतु उसके अनुरूप रिजल्ट नहीं देने का आरोप लगता रहा है।

लेकिन जयपुर के इस छोटे से स्कूल के एक कदम से ना केवल अपने ही स्कूल के 21 साल के रिजल्ट के सभी रेकोर्ड को तोड़ दिया।

बल्कि बच्चों के बीच भी अगली बार और बेहतर तरीके से पढ़कर ऐसे अनौखे गिफ्ट को जीतने का जज्बा जगा दिया है।