झुंझुनूं/जयपुर।
करीब 2 महीने बाद राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी को एक के बाद एक, लगातार तीन झटके लगे हैं।
180 प्लस सीटों का लक्ष्य लेकर चुनाव मैदान में उतरी बीजेपी के 3 नेताओं ने बीते 15 दिन में पार्टी छोड़ने का ऐलान कर दिया।
राजस्थान में झुंझुनू जिले के नवलगढ़ से विधायक रही प्रतिभा सिंह ने आज भारतीय जनता पार्टी छोड़ने की घोषणा कर दी।
सूत्रों का दावा है कि प्रतिभा सिंह इस साल के अंत तक होने वाले विधानसभा चुनाव में हनुमान बेनीवाल की 29 अक्टूबर को घोषित होने वाली पार्टी से चुनाव लड़ सकतीं हैं।
प्रतिभा सिंह कांग्रेस के टिकट पर 2003 से 2008 तक नवलगढ़ विधानसभा क्षेत्र से विधायक रह चुके हैं।
उसके बाद लगातार दो विधानसभा चुनाव हार चुके प्रतिभा सिंह ने 4 साल पहले ही भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुईं थीं।
झुंझुनू के पूर्व सांसद पूर्व केंद्रीय मंत्री और राजस्थान से विकसित राज नेता शीशराम ओला के खेमे से माने जानी जातीं हैं।
प्रतिभा सिंह ने आरोप लगाया है कि 4 साल से भारतीय जनता पार्टी लगातार उसकी उपेक्षा कर रही है, जिससे आहत होकर आज उन्होंने पार्टी छोड़ने की घोषणा कर दी।
गौरतलब है कि साल 2008 में नवलगढ़ से बसपा के टिकट पर राजकुमार शर्मा विधायक बने थे, उन्होंने प्रतिभा सिंह को हराया।
उसके बाद 2013 में राजकुमार शर्मा ने निर्दलीय चुनाव लड़ते हुए प्रतिभा सिंह को लगातार दूसरी बार विधानसभा चुनाव में पटखनी दी थी।
इससे पहले कल ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की 2003 से 2008 वाली सरकार में पर्यटन मंत्री की रही उषा पूजा ने भी भारतीय जनता पार्टी छोड़ने की घोषणा की थी।
बाड़मेर के शिव से बीजेपी विधायक और पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह ने भी पिछले महीने ही बीजेपी छोड़ी है।
सांगानेर से बीजेपी विधायक घनश्याम तिवाड़ी करीब 4 महीने पहले ही पार्टी छोड़कर भारत वाहिनी पार्टी के नाम से अपना अलग दल बना चुके हैं।