हैरान रह जाएंगे आप ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ की कमाई देखकर-

38
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

गांधीनगर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 31 अक्टूबर को गुजरात के नर्मदा नदी के तट पर देश के पहले गृहमंत्री और भारत में 565 रियासतों कोई एक करके वर्तमान भारत बनाने वाले लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के उद्घाटन के बाद जिस तरह से पर्यटकों की संख्या में इजाफा हो रहा है, उससे कोई भी सहज ही अनुमान लगा सकता है कि करीब 3000 करोड़ खर्च कर बनाई गई सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा की लागत निकलने में अधिक बरस नहीं लगेंगे।

गुजरात सरकार की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक अकेले 9 नवंबर को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देखने के लिए 23,666 पर्यचक पहुंचे। 10 नवंबर तक 74,671 लोगों ने इस विशालकाय प्रतिमा को देखा।

हर दिन हजारों की संख्या में पर्यटकों के पहुंचने से सरदार बल्लभभाई पटेल एकता ट्रस्ट को 9 नवंबर 2018 तक ही कुल 1 करोड़ 76 लाख 84 हजार 4 सौ 65 रुपये की आमदनी हो चुकी थी।

नर्मदा नदी के तट पर बनी दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” को देखने के लिए देश भर के लोगों में जबरदस्त उत्साह है, बल्कि विदेशी पर्यटकों की तादात में भी रिकॉर्ड तोड़ इज़ाफ़ा हुआ है। इस प्रतिमा के अनावरण के बाद पर्यटकों का तांता लगा हुआ है।

बता दें कि इस 182 मीटर ऊंची प्रतिमा के अनावरण के बाद पहले ही दिन, यानी 4 नवंबर 2018 को टिकटों की बिक्री से 19 लाख, 10 हजार, 4 सौ, पांच रुपये के राजस्व की प्राप्ति हुई।

लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की इस विशालतम प्रतिमा को देखने के लिए पिछले रविवार को 7 हजार, 7 सौ 10 पर्यटक पहुंचे। गुजरात सरकार के मुताबिक जिनसे मात्र एक दिन में इतना राजस्व प्राप्त हुआ।

पटेल की इस प्रतिमा के अनावरण के बाद के महज 2 दिनों में 4796 लोग पहुंचे। इनके द्वारा खरीदे गए टिकटों से 9 लाख 53 हजार रुपये की राजस्व आमदनी हुई।

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल की प्रतिमा का अनावरण 31 अक्टूबर 2018 को, उनकी जयंती पर किया था। नवंबर की पहली तारीख से पर्यटकों के लिए खोले गए इस स्थल को लेकर पर्यटकों में जबरदस्त उत्साह है। महीने की पहली तारीख को 27 सौ 37 लोग यह प्रतिमा देखने पहुंचे। जिनमें 2497 वयस्क और 240 बच्चे थे। इनसे ट्रस्ट को कुल 5 लाख 46 हजार 50 रुपये के राजस्व की आमदनी हुई।

2 नवंबर 2018 को 2299 लोग पटेल की प्रतिमा देखने पहुंचे। जिनमें 2083 वयस्क और 206 बच्चे थे। इसके अगले दिन, यानी 2 नवंबर को प्रतिमा देखने आए पर्यटकों से 4 लाख 7 हजार 6 सौ, 50 रुपये प्राप्त हुए।

आपको बता दें कि सरदार पटेल की इस प्रतिमा तक पहुंचने के लिए प्रति व्यक्ति 380 रुपये का टिकट तय किया गया है। इसमें 350 रुपये प्रतिमा की गैलरी को देखने के लिए खर्च करने पड़ते हैं। पर्यटकों को बस पार्किंग से स्टैच्यू तक पहुंचाने के लिए 30 रुपया देना पड़ता है, क्योंकि पार्किंग से प्रतिमा तक की दूरी अच्छी-खासी है।

खबरों के लिए फेसबुक, ट्वीटर और यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। खबर पसन्द आए तो शेयर करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।