library university of rajasthan

जयपुर।
लोकसभा चुनाव 2019 की आचार संहिता के बावजूद देश में विकास कार्यों को थामा नहीं गया है, लेकिन राजस्थान विश्वविद्यालय ने इसी आचार संहिता का बहाना बनाकर 40 डिग्री तापमान में पढ़ने वाले छात्रों को तपा दिया है।

विवि के केन्द्रीय पुस्तकालय समेत सभी प्रशासनिक भवनों की डक्टिंग (कॉमन कूलर) को बंद कर रखा है। विद्यार्थी परेशान हैं, लेकिन विवि प्रशासन ने साफ कह दिया है कि आचार संहिता हटने बाद ही डक्टिंग शुरू करने के लिए ठेका दिया जाएगा।

परेशान छात्रों ने इस बात को लेकर कुलपति प्रो. आरके कोठारी से शिकायत की गई, तो उन्होंने रजिस्ट्रार विवेक कुमार के पास भेज दिया। जब रजिस्ट्रार से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अभी आचार संहिता है, इसलिए कोई टेंडर जारी नहीं किया जाएगा, जबकि खुद वाइस चांसलर और रजिस्ट्रार एसी में बैठते हैं।

दोनों जिम्मेदार अधिकारियों के अलावा विश्वविद्यालय के इन्जीनियर हरि सिंह तोमर को ज्ञापन दिया गया है, लेकिन वहां से भी रजिस्ट्रार विवेक कुमार के आर्डर का इंतजार बताया जा रहा है।

छात्र हुए मुखर
भीषण गर्मी के चलते छात्र-छात्राएं रीडिंग हॉल में बैठकर ठीक से पढाई नहीं कर पा रहे हैं। तपा देने वाले इस मौसम में कॉमन कूलर को चालू नहीं किया जाना कितना दुखदाई हो सकता है, इसका उदाहरण है राजस्थान विवि की लाइब्रेरी है, जहां पर 10 बजने के बाद विद्यार्थी धीरे-धीरे यहां से निकलने लग जाते हैं।

वैसे करीब 40 डिग्री पहुंच चुके तापमान के चलते विश्वविद्यालय की केंद्रीय लाइब्रेरी में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का दोपहर में यहां पर बैठना किसी जंग लड़ने कम नहीं है।

राजस्थान विश्वविद्यालय की एबीवीपी के इकाई प्रमुख सज्जन कुमार सैनी ने बताया कि इस बाबत कुलपति, रजिस्ट्रार और इंजिनियर को ज्ञापन दिया गया है, यदि दो दिन में डक्टिंग शुरू नहीं की गई तो विवि प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा।

हजारों छात्र परेशान

बता दें कि विवि के इस सबसे बड़े और पुराने केंद्रीय पुस्तकालय में पढ़ने के लिए हर रोज हजारों छात्र-छात्राएं आते हैं। लाइब्रेरी में छात्र देर रात तक भी अध्ययन करते हैं।

यहां पर नियमित पढ़ाई करने वाले छात्र बताते हैं कि गर्मी के कारण बीते चार दिन से अध्ययन करने विद्यार्थियों की तादात वालों की तादाता आधी से भी कम रह गई है।

इस मसले पर बात करने के लिए जब हमने रजिस्ट्रार विवेक कुमार को फोन किया, तो उन्होंने फोन पिक नहीं किए। रजिस्ट्रार के दोनों मोबाइल नंबर पर रिंग बज रही है, यानी दोनों नंबर चालू हैं।