door to door jaipur
door to door jaipur (file photo)

—मोदी सरकार दे रही पैसा, राज्य सरकार की जनता से वसूली की तैयारी, राज्य सरकार ने उपविधियां लागू की, नगर निगम, नगर परिषद, नगर पालिकाओं में हुई लागू।

जयपुर। स्वच्छ भारत मिशन के तहत शहरों में डोर-टू-डोर सफाई व्यवस्था के लिए केंद्र सरकार से पैसा मिलने के बावजूद राज्य सरकार ने जनता से सफाई के नाम पर शुल्क वसूलने की तैयारी कर ली है।

राज्य सरकार ने वसूली के लिए कानूनी जामा तैयार कर लिया है और लोकसभा चुनावों के बाद लोगों से सफाई के नाम पर शुल्क वसूली शुरू की जाएगी।

सरकार की ओर से जारी उपविधि में सफाई के लिए शुल्क के प्रावधान के साथ-साथ कचरा गंदगी फैलाने वालों पर जुर्माने का भी प्रावधान किया गया है।

नगर निगम धिकारियों के अनुसार केंद्र सरकार हर माह करीब 4 करोड़ रुपए देती है, जिसको राज्य सरकार खर्च नहीं कर रही है, कहा जा सकता है कि इस पैसे को डकार रही है।

स्वायत्त शासन विभाग ने 12 अप्रेल को उपविधियां 2019 लागू की हैं, जिसके तहत घर-घर कचरा संग्रहण कार्य के लिए प्रत्येक मकान-दुकान से शुल्क वसूला जाएगा।

अभी तक यह कार्य स्वच्छ भारत मिशन के तहत केंद्र सरकार के मिलने वाले पैसे से हो रहा था। कहा जा रहा है कि मिशन के तहत शहरों में घर-घर कचरा संग्रहण प्रणाली विकसित करने के लिए यह पैसा दिया जा रहा है, जो कभी भी बंद हो सकता है।

ऐसे में सभी नगरीय निकायों को इस व्यवस्था को संचालित करने के लिए अपनी खुद की व्यवस्था विकसित करनी है। इसी के तहत यह शुल्क वसूली का प्रावधान किया गया है।

जानकारों का कहना है कि यूजर चार्जेज बंद होने के बाद से ही नगरीय निकायों को सफाई के एवज में पैसा मिलना बंद हो गया था।

पिछली सरकार के दौरान भी यह उपविधियां आई थी, लेकिन चुनावी समय होने के कारण पिछली सरकार ने इनको लागू नहीं किया।

अब कहा जा रहा है कि नई सरकार लोकसभा चुनावों के बाद सफाई के लिए शुल्क वसूली शुरू करवा सकती है। सरकार की ओर से इसे सहयोग राशि का नाम दिया गया है।
यह होंगी दरें

उपभोक्ता की श्रेणी….सहयोग राशि (प्रतिमाह)
50 वर्गमीटर तक मकान…20 रुपए

50 से 300 वर्गमीटर तक मकान…80 रुपए
300 वर्गमीटर से अधिक क्षेत्रफल का मकान…150 रुपए

व्यावसायिक प्रतिष्ठान, दुकान, खानपान के स्थान…250 रुपए
गेस्ट हाउस…750 रुपए

छात्रावास सरकारी…500 रुपए
छात्रावास निजी…1000 रुपए

रेस्टोरेंट…750 रुपए
होटल रेस्टारेंट…1000 रुपए

होटल रेस्टोरेंट (थ्री स्टार तक)…1500 रुपए
होटल रेस्टोरेंट (थ्री स्टार से अधिक)…3000 रुपए

व्यावसायिक कार्यालय, सरकारी कार्यालय, बैंक, बीमा कार्यालय, निजी के अलावा कोचिंग क्लासेज, शैक्षणिक संस्थान…700 रुपए
निजी शैक्षणिक संस्थान…1000 रुपए

निजी कोचिंग संस्थान…5000 रुपए
निजी कोचिंग क्लासेज…1000 रुपए

क्लीनिक…1000 रुपए
क्लीनिक, डिस्पेंसरी, लेबोरेटरीज (50 बैड तक)…2000 रुपए

क्लीनिक, डिस्पेंसरी, लेबोरेटरीज (50 बैड से अधिक)…4000 रुपए
लघु व कुटीर उद्योग, वर्कशॉप (केवल गैर खतरनाक अवशिष्ठ 10 किग्रा प्रतिदिन)…750 रुपए

गोदाम, कोल्ड स्टोरेज (केवल गैर खतरनाक अवशिष्ठ)…1500 रुपए
शॉदी हॉल, उत्सव हॉल, प्रदर्शनी एवं मेला (3000 वर्गमीटर क्षेत्रफल तक)…2000 रुपए

शॉदी हॉल, उत्सव हॉल, प्रदर्शनी एवं मेला (3000 वर्गमीटर क्षेत्रफल से अधिक)…5000 रुपए
अन्य जो ऊपर चिन्हित नहीं है…नगरीय निकाय के आकलन के अनुसार

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।