26 C
Jaipur
मंगलवार, अगस्त 11, 2020

मंगल ग्रह में क्यों जाना चाहते हैं हम

- Advertisement -
- Advertisement -

बीजिंग, 23 जुलाई (आईएएनएस)। अंतरिक्ष कार्य का विकास और अंतरिक्ष की खोज देश की व्यापक क्षमता दिखाती है। सभी लोग इसका महत्व समझते हैं। स्पेस एक्स के सीईओ एलोन मस्क ने दावा किया था कि वे एक करोड़ लोगों को मंगल ग्रह में पहुंचाएंगे। कई देशों ने इस जुलाई में मार्स रोवर छोड़ने की योजना की घोषणा भी की।
गुरुवार दोपहर 12 बजकर 41 मिनट पर चीन का पहला मार्स रोवर थ्येनवन नंबर-1 सफलता से लांच हुआ। योजनानुसार अगले सात महीनों में थ्येनवन नंबर-1 की उड़ान जारी रहेगी और अंतत: मंगल ग्रह में पहुंचेगा। इसका लक्ष्य मंगल ग्रह की परिक्रमा, मंगल ग्रह में लैंडिंग और गश्त का मिशन पूरा करना है।

यह आवश्यक है कि इन सात महीनों में पूरी दुनिया के विज्ञान प्रेमी चीन के इस मार्स रोवर पर नजर रखेंगे। अगर मिशन सफल होता है, तो चीन दुनिया में पहला देश बन जाएगा, जो मंगल ग्रह के पहले अन्वेषण में ही सॉफ्ट लैंडिंग पूरा कर पाएगा।

आंकड़ों के अनुसार अब तक मंगल ग्रह के अन्वेषण की सफलता दर करीब 42 प्रतिशत है। मानव जाति के इतिहास में अमेरिका, सोवियत संघ, जापान, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और भारत ने डिटेक्टर को मंगल ग्रह के कक्षा में पहुंचाया था। वहीं अमेरिका और सोवियत संघ ने मंगल ग्रह में सॉफ्ट लैंडिंग की। अब तक सिर्फ अमेरिका ने मंगल ग्रह में सैर कर निरीक्षण किया।

हालांकि मंगल ग्रह के अन्वेषण में अधिक जोखिम मौजूद हैं, लेकिन बहुत देश फिर भी सक्रिय हैं। इस साल की गर्मियों में तीन देशों के डिटेक्टर मंगल ग्रह जाएंगे। संयुक्त अरब अमीरात ने 20 जुलाई को आशा नाम के मार्स रोवर छोड़ा। चीन ने 23 जुलाई को थ्येनवन नंबर-1 का सफल प्रक्षेपण किया। अनुमान है कि अमेरिका 30 जुलाई को मार्स रोवर छोड़ेगा।

ये देश मंगल ग्रह के अन्वेषण के लिए भारी कीमत क्यों चुकाना चाहते हैं? कारण यह है कि मंगल ग्रह पृथ्वी से नजदीक है और वहां का वातावरण पृथ्वी के जैसा है। इसलिए लोग जानना चाहते हैं कि क्या मंगल ग्रह में जीवन को जन्म देने की स्थिति होती है या नहीं? मंगल ग्रह पृथ्वी का अतीत है या भविष्य?

इस बात के सबूत भी पाए गए हैं कि मंगल ग्रह में पानी और वायुमंडल मौजूद है। पृथ्वी से भिन्न है कि वहां के वायुमंडल में मुख्यत: कार्बन डाइऑक्साइड गैस होती है, लेकिन हम तकनीक के जरिए कार्बन डाइऑक्साइड से ऑक्सीजन निकाल सकते हैं। इससे लोग सांस ले सकते हैं और ईंधन भी बना सकते हैं।

इसकी वजह से भविष्य में रोबोट या मानव जाति संभवत: मंगल ग्रह में रह सकेंगे। पृथ्वी के बराबर मंगल ग्रह में क्या हुआ? क्या वह हमारा दूसरा घर बनेगा? इसका जवाब पाने के लिए लोगों की एकता और सहयोग की जरूरत है। हम एक साथ मंगल ग्रह का अन्वेषण करें।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

— आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
मंगल ग्रह में क्यों जाना चाहते हैं हम 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

बिहार में कोरोना जांच की संख्या बढ़ी है, रोजाना 1 लाख का लक्ष्य : नीतीश

पटना, 11 अगस्त (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को कोविड-19 की वर्तमान स्थिति को लेकर वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री...
- Advertisement -

सिद्धार्थ शुक्ला ने जन्माष्टमी पर बचपन की यादें साझा कीं

मुंबई, 11 अगस्त (आईएएनएस)। बिग बॉस 13 के विजेता और टेलीविजन स्टार सिद्धार्थ शुक्ला जन्माष्टमी के अवसर पर अपने बचपन की यादों में चले...

फीकी पड़ी सोने की चमक, चांदी भी लुढ़की (लीड-1 )

मुंबई, 11 अगस्त (आईएएनएस)। रूस में कोरोना वैक्सीन यानी टीका तैयार होने की खबर से सोने और चांदी की चमक फीकी पड़ गई है।...

इतने लंबे समय तक क्रिकेट से कभी दूर नहीं रहा : टेलर

त्रिनिदाद, 11 अगस्त (आईएएनएस)। न्यूजीलैंड के अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर ने कहा है कि अपने स्कूल के दिनों के बाद से वह इतने लंबे...

Related news

NRC (National Register of citizen) और CAB (Citizenship Ammendment Bill) के बाद क्या हैं PCB और UCC…?

New delhiकेंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा इसी सप्ताह नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Ammendment Bill), यानी CAB पास करवाने के बाद गुरुवार...

हर 100 साल में आती है महामारी, 1720, 1820, 1920 और अब 2020 में भयानक Covid-19

रामगोपाल जाट कोरोना वायरस की चपेट में अब पूरी दुनिया आ चुकी है। सबसे ज्यादा करीब 5500 मौतें चीन में हुई है। चीन के एक...

गांधीवादियों ने किया गरीबी भारत छोड़ो उपवास (लीड-1)

भोपाल, 9 अगस्त (आईएएनएस)। आजादी के आंदोलन में महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारत छोड़ो आंदोलन चलाया गया था, उस आंदोलन की सालगिरह पर...

बेनीवाल ने गहलोत को कहा: जिस दिन हमने घेरने का कदम उठाया तो तुम्हारे पांव उखड़ जाएंगे

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चेतावनी देते हुए कहा है...
- Advertisement -