Nationaldunia

—किसी भी कश्मीरी के मरने की जिम्मेदारी हमारी नहीं होगी।

नई दिल्ली।
गत गुरूवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद सेना और अर्द सैनिक बल पूरी तरह से एक्शन मोड में हैं।

हमले के दूसरे दिन झांसी में सभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सेना को खुली छूट दे दी गई है। लगता है वास्वत में ही मोदी सरकार ने सेना और अर्द सैनिक बलों को खुली छूट दी गई है।

इसी का नतीजा है कि सेना ने महज 100 घंटे में हमले के मास्टर माइंड बताए जा रहे कामरान उर्फ रशीद गाजी को उसके साथियों समेत मकान उड़कर ढेर कर दिया गया है।

आज सेना, सीआरपीएफ और जम्मू कश्मीर पुलिस की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान और आतंकियों को साफ चेतावनी देते हुए कहा है कि जैश ए मोहम्मद पाकिस्तानी सेना का ही बच्चा है।

इसका मतलब साफ है कि अब सेना कभी भी पाकिस्तानी सेना के खिलाफ एक्शन लेने की तैयारी कर रही है।

सेना के ले.जनरल केजेएस डिल्लन ने कहा है कि कश्मीर के लोग अपने उन बच्चों को सरेंडर करने के लिए बोल दें तो आतंकी गतिविधियों में शामिल हैं। ले.ज. डिल्लन ने खासकर कश्मीर की मांओं से अपील की है कि अपने बच्चों को समझाकर सरेंडर करने को कहें।

उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि जो भी कश्मीरी बंदूक उठाएगा, सेना उसका खात्मा कर देगी। उनके साथ बैठे श्रीनगर के आईजी एसपी पाणी ने बताया कि सेना और सीआरपीएफ के प्रत्येक एक्शन में साथ देने के लिए पुलिस तैयार है।

इस मौके पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए सीआरपीएफ के आईजी जुल्फिकार हसन ने कहा है कि कश्मीरी युवा जब तक आतंक का साथ नहीं छोड़ेंगे, तब तक उनके खिलाफ एक्शन जारी रहेगा।

इस अवसर पर ले.ज. डिल्लन ने कहा कि आतंक की जड़ पाकिस्तान और उसकी सेना है। साफतौर पर उन्होंने कहा है कि सेना अपने फुल एक्शन मोड में है और यदि इस अभियान में पत्थरबाज और अन्य कोई भी सामने आएगा तो उसका खात्मा किया जाएगा।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।