Secularism of india
Secularism of india by sirf excel

New Delhi.

त्यौहार हर जाति-धर्म (cast-religion) और समाज (Society) के लिए रहने, खाने और कपड़े पहने के बाद सर्वाधिक जरूरी चीज होती हैं।

यह ना केवल आध्यात्मिक मामला है, बल्कि आदमी के जीवन में बाहरी तौर पर सर्वाधिक प्रभावित करने वाली सबसे बड़ी चीज भी है। हिन्दू धर्म में त्यौहारों को बड़ा स्थान दिया गया है।

जब त्यौहार (Festival’s) को लेकर कभी, किसी भी तरह का हमला होता है तो भारत के 117 करोड़ हिंदुओं की आस्था पर गहरा आघात पहुंचता है। हिंदुस्तान लीवर (Hindustan liver) भी इसी की चपेट में आ चुका है।

-विज्ञापन -

#surfexcelboycott: धर्म पर हमला तो 117 करोड़ हिंदुओं ने बिगाड़ी Hindustan Unilever की हालात 1

वैसे तो बरसों से हिंदुओं के त्योहारों पर विज्ञापनों (Advertisement) के माध्यम से चोट की जाती रही है, किन्तु पहली बार है कि सोशल मीडिया (Social media) के आविष्कार ने बहुराष्ट्रीय कम्पनियों (International companies) की इस काली करतूत को उजागर किया है।

इस विज्ञापन के बाद कंपनी को होने वाले नुकसान को देखते हुए कहा जा सकता है कि अब कोई कंपनी अपने फायदे के लिए हिन्दू धर्म की आस्था से खुलेपन के आधार पर खिलवाड़ नहीं कर सकती।

बताया जा रहा है कि शनिवार को ही इस विज्ञापन के बाद बड़े पैमाने पर हिंदुस्तान लीवर के प्रोजेक्ट्स का बहिष्कृत किया गया है। अकेले सर्फ एक्सेल की बिक्री में करीब 20 फ़ीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई है।

यह विज्ञापन हिंदुस्तान यूनिलीवर के लिए घातक साबित हो गया है। कंपनी ने हिंदुओं को हमेशा की तरह सॉफ्ट टारगेट मानते हुए विज्ञापन बनाकर टीवी के माध्यम से परोस दिया, लेकिन अब यही एडवरटाइजिंग कंपनी के लिए भारी पड़ता नज़र आ रहा है।

सोशल मीडिया के द्वारा जो अभियान चलाया जा रहा है, उससे साफ है कि कल का सूर्य अस्त नहीं होगा और कंपनी को माफी मांगते हुए इस विज्ञापन को समेटने होगा।

हिंदुस्तान लीवर के इस विज्ञापन को सीधे तौर पर हिंदू धर्म पर हमला समझा जा रहा है। हिंदू धर्म के युवाओं ने सोशल मीडिया के माध्यम से कड़े शब्दों में प्रतिकार किया है, और इस विज्ञापन को हटाते हुए सर्फ एक्सेल (Surf excel) की पेरेंटल कंपनी हिंदुस्तान युनिलीवर से हिंदू धर्म से माफी मांगने को कहा है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।