सुजाता सिंह@नई दिल्ली।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफ़िले पर हमले और उसमें 40 जवानों के शहीद होने को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।

इस हमले के बाद जहां पूरा देश रोष में है, वहीं हिमाचल प्रदेश के बुद्दि जिले में पढ़ने वाले एक छात्र को इस हमले की पहले से जानकारी होने की बात सामने आई है।

छात्र कश्मीर का है, जिसने एक आतंकी संगठन के पोस्ट पर कमेंट किया था। छात्र तहलीन गुल को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस को एक फेसबुक पोस्ट मिला है जिसमें एक आतंकी संगठन ने हमले की बात कही थी, और उस पर छात्र ने कमेंट करते हुए लिखा था कि “खुदा आपको जन्नत बक्शे।”

पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने जांच में पाया है कि एक आतंकी संगठन ने फेसबुक पर पुलवामा में आईडी से हमला करने की बात कही थी।

जिस पर कमेंट करते हुए छात्र तहरीन गुल लिखा कि “अल्लाह ताला सलामत रखे।”

इस हमले की जानकारी पहले से होने के बाद किसी के द्वारा पहली बार सामने आई है। हालांकि, देशभर में सुरक्षा एजेंसियां, जांच एजेंसियां और खुफिया एजेंसियां विभिन्न सोशल मीडिया साइट्स को खंगाल रही है।

बताया जा रहा है कि राजस्थान के 3 विश्वविद्यालयों, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और कई अन्य विश्वविद्यालयों से छात्रों के द्वारा पुलवामा हमले के बाद जश्न मनाने की मुद्रा में पोस्ट्स और कमेंट्स को लेकर सख्त एक्शन लिया जा रहा है। इन्हें गम्भीरता से लेते हुए पुलिस की कार्रवाई जारी है।

इधर, राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले में एक सीनियर सेकेंडरी स्कूल के प्रिंसिपल इकरार अजमेरी को गम्भीर इल्ज़ाम के बाद सस्पेंड कर दिया गया है।

इकरार अजमेरी नामक इस प्रिंसिपल ने प्रार्थना सभा में छात्रों को सैनिकों द्वारा कश्मीर में रेपिस्ट कहा था, साथ ही अन्य कई गंभीर टिप्पणियां की थी।

राजस्थान में अजमेर दरगाह के दीवान मुखिया के द्वारा एक दिन पहले ही कहा गया है कि पाकिस्तान से आने वाले तमाम जायरीनों को आने की अनुमति नहीं दी जाए, इनमें कई आईएसआईएस के एजेंट होते हैं।