नई दिल्ली।

इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा 200 पॉइंट रोस्टर को निरस्त कर 13 पॉइंट रोस्टर को लागू करने के मामले में आंदोलन उग्र होता जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को जायज ठहराने के बाद देश में छात्रों के बीच उग्रता बढ़ती जा रही है।

आज भी दिल्ली में विश्विद्यालय अनुदान आयोग (UGC) से मानव संसाधन विकास मंत्रालय तक मार्च में शामिल सेंकडो की संख्या में छात्र-छात्राओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

13 पॉइंट रोस्टर के खिलाफ उग्र SC, ST, OBC, स्टूडेंट्स ने दी गिरफ्तारी 1

इससे पहले राजस्थान विश्वविद्यालय समेत कई यूनिवर्सिटीज में भी एसटी, एससी, ओबीसी (ST, SC, OBC) वर्ग के छात्रों और शिक्षकों द्वारा प्रदर्शन किया जा चुका है।

आपको बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले और उसके खिलाफ लगी एसएलपी को सुप्रीम कोर्ट द्वारा खारिज किये जाने के बाद बहुजन समाज (ST, SC, OBC) के करीब 85% वर्ग द्वारा केंद्र सरकार के विरुद्ध मोर्चा खोल रखा है।

उल्लेखनीय है कि 200 पॉइंट रोस्टर की जगह 13 पॉइंट रोस्टर लागू करने से विश्विद्यालयों में होने वाली शिक्षक भर्ती में आरक्षण करीब-करीब निष्प्रभावी हो जाता है।

इसके तहत किसी भी उच्च शिक्षण संस्था में होने वाली शिक्षक भर्ती में विश्वविद्यालय-कॉलेज के बजाए विभाग को यूनिट मानकर आरक्षण का लाभ देने का प्रावधान है। इसके कारण हर विभाग में कम से कम 13 पदों पर भर्ती होनी आवश्यक है।

तमाम लोग केंद्र सरकार से इस फैसले के खिलाफ अध्यादेश लाने की मांग कर रहे हैं। केंद्रीय एमएचआरडी मिनिस्टर प्रकाश जावड़ेकर ने दावा किया है केंद्र सरकार फिर सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करेगी।

ये भी पढ़िये :-

Leave a Reply