Statue of unity: मोदी का हमला, कहा: महापुरुषों का सम्मान करना अपराध है क्या?

15
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary

आपका विज्ञापन नेशनल दुनिया पर लगायें, प्रतिदिन हजारो लोगो तक आपके बिजनेस को पहुंचाए विज्ञापन रेट मात्र 100 रूपये प्रतिदिन से शुरू...

जयपुर/अहमदाबाद।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी परियोजना स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा अब पूरी तरह बन कर तैयार है। आज एक भव्य आयोजन में प्रधानमंत्री मोदी ने इसका उद्घाटन कर दिया है।

इस अवसर पर मोदी ने विपक्ष पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि देश के महापुरुषों का सम्मान करना अपराध है क्या, कुछ लोग इसको अपराध मानते हैं।

आइए जानते है इस प्रतिमा से जुड़ी कुछ खास बातें-

गुजरात सरकार द्वारा 7 अक्टूबर 2010 को इस परियोजना की घोषणा की गयी थी। आज मोदी ने ही पीएम के रूप में इस प्रतिमा का आवरण किया है।

गुजरात के मुख्यमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने 31 अक्टूबर 2013 को सरदार पटेल के जन्मदिवस के मौके पर इस विशालकाय मूर्ति के निर्माण का शिलान्यास किया। मूर्ति नर्मदा नदी के तट पर बनी है। मूर्ति के नीचे बने बेस में भव्य म्यूजिक बनाया गया है।

यह स्मारक सरदार सरोवर बांध से 3.2 किमी की दूरी पर साधू बेट नामक स्थान पर है, जो कि नर्मदा नदी पर एक टापू है। यहां बेस मजबूत करने में करोड़ों खर्च हुए हैं। इस प्रतिमा का निर्माण इस्पात के फ्रेम, प्रबलित, सीमेण्ट, कंक्रीट और काँसे की पर्त चढ़ाकर किया गया है।

टर्नर कन्स्ट्रक्शन, जो बुर्ज ख़लीफ़ा के सलाहकार थे, उन्हीं के सहयोगी संगठन – माइकल ग्रेव्स एण्ड एसोशिएट्स एवं मीनहार्ड ग्रुप दोनों मिलकर पूरी परियोजना की निगरानी की है। मूर्ति का निर्माण पूरी तरह मेक इन इंडिया के तहत किया गया है। परियोजना में प्रतिमा और अन्य भवन, जिनमें स्मारक, आगन्तुक केन्द्र, बाग, होटल, सभागार, मनोरंजन-उद्यान तथा शोध संस्थान आदि शामिल हैं।

यह विश्व का सबसे ऊंचा स्मारक होगा। देश के पहले उप प्रधानमंत्री और पहले गृह मंत्री रहे लौह पुरुष सरदार पटेल की इस प्रतिमा को बनाने के लिए पूरे देश से लोहा एकत्र किया गया है। जिसमें देश के लाखों किसानों द्वारा पुराने उपकरण जैसे फावड़ा, कुदाल, हल वगैरह इकट्ठा किया गया है। इसके निर्माण में कुल 2990 करोड़ की लागत से इसे तैयार किया गया है।

इस प्रतिमा से देश के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, जिससे सरकारी राजस्व में वृध्दि होगी। गुजरात सरकार के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। खासकर मोदी के लिए, जिन्होंने मुख्यमंत्री रहते सपना देखा था।

पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में एक बात मशहूर है, की मोदी जिस परियोजना का शिलान्यास करते हैं, उसका उद्घाटन भी वही करते हैं। एक बार और ये बात सच साबित हो गई है।

और खबरों के लिए फेसबुक और ट्वीटर और यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।