29 C
Jaipur
रविवार, सितम्बर 20, 2020

राष्ट्रीय खेल दिवस पर रिजिजू ने ध्यानचंद को किया याद

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 29 अगस्त (आईएएनएस)। केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर शनिवार को हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद को 115वीं जयंती पर याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।
राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर दिल्ली के मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में रिजिजू ने ध्यानचंद को याद किया। 29 अगस्त को भारत में हॉकी के इस महानायक के जन्मदिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

रिजिजू समारोह के दौरान अन्य गणमान्य लोगों में शामिल हुए और उन्होंने स्टेडियम में एक खेलो इंडिया ई-पाठशाला को संबोधित करने के लिए भी समय लिया था।

रिजिजू ने कहा, आज हम सभी के लिए, विशेष रूप से खेल समुदाय के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। मेजर ध्यानचंद का भारत के लिए लगातार तीन स्वर्ण पदक और उनका अनुकरणीय कौशल और ²ढ़ संकल्प हर भारतीय को गौरवान्वित करता है।

उन्होंने कहा, इस राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर, सरकार पुरस्कारों को स्वीकार करती है और मैं उन सभी पुरस्कार विजेताओं को बधाई देना चाहता हूं।

इस साल रिकॉर्ड 74 राष्ट्रीय खेल पुरस्कार प्रदान किए जा रहे हैं जिसमें पांच राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार भी शामिल हैं।

यह पूछे जाने पर कि इस बार पुरस्कार विजेताओं की संख्या में भारी इजाफा देखने को मिला है, खेल मंत्री ने कहा, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हमारे एथलीटों का प्रदर्शन बेहतर हो गया है। जब हमारे खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन करते हैं, तो उन्हें पहचाना जाना चाहिए और उन्हें पुरस्कृत किया जाना चाहिए। यदि सरकार उनकी उपलब्धियों को नहीं पहचानती है, तो यह हमारे भारत में होने वाली हर नवोदित खेल प्रतिभा को हतोत्साहित करेगा। पिछले वर्षों की तुलना में, भारतीय एथलीटों का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है। इसके परिणामस्वरूप पुरस्कार विजेताओं की संख्या भी बढ़ गई है।

उन्होंने कहा, उनके मंत्रालय का खेल पुरस्कारों को तय करने में कोई योगदान नहीं है और विजेताओं का चयन सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली एक स्वतंत्र समिति द्वारा किया जाता है। दूसरी बात, एक उचित प्रक्रिया होनी चाहिए जिसमें आप चुनाव करते हैं।

खेल मंत्री ने आगे कहा, खेल पुरस्कारों के लिए समिति का नेतृत्व सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश और खेल के क्षेत्र के सभी प्रसिद्ध लोग करते थे। जब वे कोई फैसला लेते हैं तो गहन विचार-विमर्श होता है, चर्चा होती है और इसके आधार पर दिशानिर्देश निर्धारित होते हैं। इसके आधार पर उन्होंने अपने फैसले का उपयोग किया है।

  • -आईएएनएस

ईजेडए/जेएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
राष्ट्रीय खेल दिवस पर रिजिजू ने ध्यानचंद को किया याद 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण रोकने के लिए पीएमओ ने संभाली कमान

नई दिल्ली, 19 सितंबर(आईएएनएस)। दिल्ली सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को सर्दियों के मौसम में वायु प्रदूषण की समस्या से निजात दिलाने के लिए प्रधानमंत्री...
- Advertisement -

आईपीएल-13 का पहला चौका रोहित, पहला विकेट चावला के नाम

अबु धाबी, 19 सितंबर (आईएएनएस)। लंबी अनिश्चित्ताओं के बाद आईपीएल का 13वां सीजन आखिरकार शुरू हो गया। यहां के शेख जायेद स्टेडियम में रविवार...

अमित साध आगामी वेब शो के लिए कर रहे 18 घंटे शूटिंग

पटियाला, 19 सितम्बर (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेता अमित साध अपने आगामी वेब सिरीज जिद के लिए प्रतिदिन 18 घंटे शूटिंग कर रहे हैं।अपने वर्क...

बिहार : गांव में नहर खोदने वाले लौंगी मांझी का सपना हुआ पूरा

गया (बिहार), 20 सितंबर (आईएएनएस)। बिहार के गया जिले के एक सुदूरवर्ती गांव में 20 साल तक कठिन परिश्रम कर नहर खोदकर पानी पहुंचाने...

Related news

पिंकी प्रधान आशिक की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल लिव इन रिलेशनशिप में रही!

बाड़मेर। 'पिंकी प्रधान' उर्फ समदड़ी पंचायत समिति प्रधान पिंकी चौधरी अपने आशिक अशोक चौधरी की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल...

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...

बाड़मेर: लड़की भगा ले गया शिक्षक, मिलते ही घरवालों ने किया ऐसा हाल

बाड़मेर। राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर में एक स्कूल के अध्यापक पर जानलेवा हमले और नाक व दोनों कान काटने की घटना सामने...

किसानों को बहकाने और बरगलाने का काम कर रहे कांग्रेस-वामपंथी दल

-मोदी सरकार के तीनों ही विधेयक क्रांतिकारी हैं, किसान को मिलेगी तरक्की, मजबूती और ताकत। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने हमेशा किसानों,...
- Advertisement -