महेंद्र सिंह धोनी का 18 साल पुराना कैरियर खत्म

धोनी को नहीं मिली बीसीसीआई के वार्षिक अनुबंध में जगह

एक समय दुनिया में बल्लेबाजी के लिए अपने तूती बजवाने वाले भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का क्रिकेट करियर लगभग खत्म हो गया है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अपने खिलाड़ियों से जो नया वार्षिक अनुबंध किया है, उसमें तीनों ही ग्रेड में महेंद्र सिंह धोनी को स्थान नहीं दिया गया है।

साल 2000 में जयपुर के एसएमएस स्टेडियम में एक लंबी पारी खेलकर दुनिया का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करने वाले महेंद्र सिंह धोनी भारत में T20, वनडे और टेस्ट क्रिकेट तीनों में एक साथ कप्तानी करने वाले एकमात्र कप्तान रहे हैं।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने 4 तरह की ग्रेड बनाई है जिसमें ए प्लस ए बी और सी के रूप में परिभाषित किया गया है। ए प्लस ग्रेड में कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह को रखा गया है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने ए ग्रेड में आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, के एल राहुल, शिखर धवन, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, कुलदीप यादव और ऋषभ पंत को रखा है।

इसी तरह से बी ग्रेड में रिद्धिमान साहा, उमेश यादव, यूज़वेंद्र चहल, हार्दिक पांड्या और मयंक अग्रवाल को जगह मिली है।

सिगरेट की कैटेगरी में केदार जाधव, नवदीप सैनी, दीपक चाहर, मनीष पांडे, हनुमा बिहारी, शार्दुल ठाकुर, श्रेयस अय्यर और वाशिंगटन सुंदर को स्थान दिया गया है।

ए प्लस कैटेगरी के प्रत्येक खिलाड़ी को सालाना 7 करोड रुपए सैलरी मिलेगी, जबकि ए कैटेगरी के खिलाड़ी को 5 करोड़, बी कैटेगरी के खिलाड़ी को तीन करोड़ और सी कैटेगरी के खिलाड़ी को एक करोड़ पर सालाना अनुबंध किया गया है।

यह भी पढ़ें :  गुवाहाटी टी-20 : नए साल की शुरुआत में बुमराह, धवन पर नजरें

सालाना अनुबंध की सूची में बाहर होने वाले महेंद्र सिंह धोनी के अलावा अंबाती रायडू, दिनेश कार्तिक और खलील अहमद भी हैं।