Sports minister ashok chandana

जयपुर।

बूंदी जिले के नैनवां थाना इलाके में विद्युत विभाग में कार्यरत XEN जेपी मीणा को भला बुरा कहने, चांटा मारने और लोक सेवक के राजकार्य में बाधा पहुंचाने को लेकर अशोक गहलोत सरकार में खेलमंत्री अशोक चांदना के खिलाफ FIR दर्ज की गई है।

IPC की धारा 332, 353 और 504 क तहत मंत्री के खिलाफ यह मुकदमा दर्ज किया गया है। नैनवां थानाधिकारी लाखन लाल मीणा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

आपको बताते हैं कि इन धाराओं में क्या प्रावधान है-

332:-एक लोक सेवक / सरकारी कर्मचारी को अपने कर्तव्य के निर्वहन से रोकने/भयोपरत के लिए हमला या आपराधिक बल का प्रयोग करना।

सजा – दो वर्ष कारावास या जुर्माना या दोनों । यह एक गैर-जमानती, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है। यह अपराध समझौता करने योग्य नहीं है।

353:- एक लोक सेवक / सरकारी कर्मचारी को अपने कर्तव्य के निर्वहन से रोकने/भयोपरत के लिए हमला या आपराधिक बल का प्रयोग करना।
सजा – दो वर्ष कारावास या जुर्माना या दोनों
यह एक गैर-जमानती, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है। यह अपराध समझौता करने योग्य नहीं है।

504:- शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान करना। कोई भी किसी व्यक्ति को उकसाने के इरादे से जानबूझकर उसका अपमान करे, इरादतन या यह जानते हुए कि इस प्रकार की उकसाहट उस व्यक्ति को लोक शांति भंग करने, या अन्य अपराध का कारण हो सकती है।

इसमें किसी एक अवधि के लिए कारावास की सजा, जिसे 2 वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दंड या दोनों से दंडित किया जाएगा।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।