New delhi

सभापति के पद पर बैठी भाजपा के सांसद रमा देवी पर लोकसभा में यह संसदीय टिप्पणी करने के मामले में समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान को बर्खास्त किया जा सकता है।

शुक्रवार को संसद में एक बिल पर चर्चा के दौरान आजम खान ने संसदीय सीमाओं को लांघते हुए सभापति रामादेवी को कहा कि, “मुझे आप इतनी अच्छी लगती हैं मैं कि हमेशा आपकी आंखों में देखता रहूं”।

यहां पर क्लिक करके देखिए राजस्थान पुलिस का स्पेशल वीडियो

इस पर भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस, राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, डीएमके और बीजद समेत ज्यादातर दलों ने आजम खान पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

संभवतः किसी सांसद के खिलाफ संसद में पहली बार तकरीबन सभी राजनीतिक दलों की महिला सांसदों ने सस्पेंड करने के लिए लोकसभा स्पीकर से डिमांड कर डाली।

सपा सांसद आजम खान इस दौरान संसद परिसर में मौजूद रहे, लेकिन विरोध के चलते सदन में नहीं बैठ पाए।

सभापति रमा देवी ने कहा है कि अगर आजम खान हीरो बनने के लिए संसद में आए हैं, तो मैं भी उनको जीरो बनाकर ही दम लूंगी।

शुक्रवार शाम को सभी राजनीतिक दलों की बैठक के बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कहा है कि सांसद आजम खान को निर्देश दिए गए हैं कि सोमवार को वह बिना शर्त संसद में माफी मांगे अथवा संविधान के मुताबिक उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

संविधान विशेषज्ञ पीडीटी आचारी का कहना है कि यदि समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान माफी नहीं मांगते हैं तो लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला के पास उनको संसद से बर्खास्त किए जाने का अधिकार है।

इस मामले में बोलते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि आजम खान का बयान उनके चरित्र का प्रतिबिंब है, अखिलेश यादव ने उनका बचाव कर यह बता दिया है कि उनकी सोच में कोई फर्क नहीं है।

इसी प्रकरण को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है आजम खान के शब्दों को दोहराना नहीं चाहती, लेकिन संसद में जो हुआ उसे पूरे देश ने देखा है और विरोध में असमंजस नहीं होना चाहिए।

प्रकरण को आगे समझाते हुए भाजपा सांसद रमा देवी ने कहा है कि आजम खान ने महिलाओं का कभी सम्मान नहीं किया, यह पूरा देश जानता है, अध्यक्ष ने लोकसभा से निष्कासित करें।

आजम खान के इस बयान पर बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि आजम खान ने पीठासीन महिला के खिलाफ अशोभनीय शब्दों का इस्तेमाल किया है, संसद में यह नहीं सभी महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए।

प्रकरण को लेकर टीएमसी की सांसद में चक्रवर्ती ने कहा है कि संसद में कोई भी महिला से यह नहीं कह सकता कि मेरी आंखों में देख कर बात करो, यह महिला और संसद का अपमान है।

इस घटना के बाद टीएमसी की सांसद नुसरत जहां ने कहा है कि पहली बार संसद में उन और नए सांसद ऐसे कृत्यों से क्या सीखेंगे, यह शर्मनाक है इसकी निंदा करते हैं।

अपना दल की सांसद अनुप्रिया पटेल ने कहा है कि आजम खान ने जो कहा है, वह अक्षम्य में है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

प्रकरण को लेकर अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने कहा है कि आजम खान की संसदीय भाषा की कड़ी निंदा करती हूं, उन्हें अपने बयान के लिए बिना शर्त तुरंत प्रभाव से माफी मांगनी चाहिए।

इसी प्रकरण को लेकर विरोध नहीं करते हुए कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने संसद में सोनिया गांधी के साथ ही इस तरह का व्यवहार हुआ था, उन्हें की कठपुतली तक आ गया था। जिसको लेकर ट्रेजरी बेंच के सदस्यों ने आपत्ति जताई थी, तब इस मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया गया था।

उधर, एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि अध्यक्ष से मांग है कि आप इस मामले का फैसला करें, सभी सांसदों के साथ हैं। मैं उसके साथ हूं मैं भाजपा से पूछना चाहता हूं कि एमजे अकबर से संबंधित मामले में बनी ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स कमेटी की रिपोर्ट कहां है।

गौरतलब है कि आजम खान ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान भी भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार और पूर्व सांसद जयाप्रदा के ऊपर अभद्र टिप्पणी कर विवादों में रहे थे।