JAIPUR.

व्यक्ति की जड़ें यदि ज़मीन से जुड़ी हुई हों तो जीवन भी सरल और आसान बना रहता है। उसके लिए आडंबर केवल शब्दभर होते हैं।

ऐसे व्यक्ति के लिए सफलता और असफलता से जिंदगी जीने में बदलाव नहीं आता है। इसी मिज़ाज़ के सरल और स्वभाव से ज़मीनी शख्स हैं bjp के बागवान।

जी हां! उसी बीजेपी ऑफिस के, जहां पर कई छुटभैये नेता, जिनका कोई बजूद नहीं होने पर भी अकड़ दिखाते फिरते हैं, उसी भाजपा कार्यालय में बरसों से कार्यरत बागवान मुरलीधर मीणा कइयों के लिए नज़ीर हैं।

बीजेपी ऑफिस में पेड़ पौधों की देखभाल करता देखने वाला जो साधारण सा बुजुर्ग व्यक्ति है, वह कई मायनों में अपने आप नायाब है।

यहां पेड़ों की रखवाली और पौधों की देखभाल करने वाले मुरलीधर मीणा की सरलता को लेकर कोई भी अंदाजा नहीं लगा सकता कि उनके दोनों बेटे बड़े अफसर बन चुके हैं।

पेड़-पौधों की बागवानी के साथ परिवार के भी सफल बागवान साबित हुए हैं। जी, हां! इनके पुत्र छोटे पुत्र बृजमोहन मीणा का हाल ही में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC Result 2018) की परीक्षा में चयन हुआ है।

बृजमोहन की आल इंडिया में 713वीं रैंक आई है। मुरलीधर का बड़ा बेटा पहले ही एकाउंट अफसर बन चुका है, जो गोवा में पोस्टेड है।

बीजेपी के बागवान मुरलीधर मीणा का कहना है कि उन्हें पेड़ पौधों से उतना ही प्रेम है, जितना कि परिवार के मुखिया को अपने बच्चों से होता है।

इनके बच्चे भले ही अब जिंदगी को बेहतर ढंग से जीने के लायक बन चुके हों, लेकिन मुरलीधर बागवानी का कार्य करने में ही जिंदगी को बेहतर मानते हैं। इतना ही नहीं, यहां पर ड्यूटी करने के अलावा घर के भी सभी कार्यों को भी खुद मुरलीधर ही करते हैं।।

कुल मिलाकर मुरलीधर मीणा उन लोगों के लिए सीख हैं, जो जीवन को जीने के लिए जिंदगी की भागमभाग में भौतिक सुखों के लिए बड़ी खुशियां ढूंढते फिरते हैं।

बुजुर्ग मुरलीधर को इस बात का कोई गुमान नहीं कि उनके बेटे बड़े अफसर बन गए हैं। बेटों की सफलता के बावजूद उनकी खुशी अब भी अपने इन छोटे-छोटे कार्यों में ही है।

घर में लाखों रुपए की आमदनी हो जाने के बाद भी उनका बागवानी और कृषि का कार्य अनवरत जारी है। उन्हें अपने बच्चों की उपलब्धि का न गुरुर है, और न ही उनके व्यवहार में कोई बदलाव आया है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।