संस्कृति एवं खानपान में आए बदलाव से बढा महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसरः डॉ. कोठारी

44
cancer workshop jaipur
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर। राजधानी में ब्रेस्ट कैंसर उपचार को समर्पित सीतादेवी हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेन्टर, प्लास्टिक सर्जरी विभाग सवाईमानसिंह मेडिकल कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में ब्रेस्ट की बीमारियों एवं उनका अत्याधुनिक निदान विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

सीतादेवी हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. उत्तम सोनी ने बताया कि कार्यशाला में लंदन से आए डॉ. ए. कोठारी ने कहा जब-जब इस प्रकार के आयोजन होते है तो चिकित्सकों को अपनी तकनीक एवं अनुभव एक शेयर करने को मंच मिलता है।

ब्रेस्ट कैंसर के उपचार में नई खोज एवं नए अनुसंधान किए जा रहे है। ब्रेस्ट कैंसर के उपचार में ऑन्कोलोजी, ऑन्को सर्जरी तथा प्लास्टिक सर्जरी विभाग द्वारा सामूहिक रूप से किया जाता है।

बदलती जीवन शैली, फॉस्टफूड संस्कृति के अधिक चलन का परिणाम है कि महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर सर्वाधिक पाया जाता है।

आयोजन समिति के सचिव एवं हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. उत्तम सोनी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि भारत में हर 15 वी महिला को ब्रेस्ट कैंसर की संभावना रहती है।

किसी भी महिला के हो सकता है इसकी समय समय पर जांच एवं स्क्रीनिंग करा लेनी चाहिए। इसके उपचार में प्लास्टिक सर्जरी विभाग का भी सहयोग आवश्यकता है।

कार्यशाला एवं ब्रेस्ट कोर्सेस सेमिनार के मुख्य अतिथि एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. यूएस अग्रवाल थे।

रमैया कैंसर इन्सीट्यूट मुम्बई के डॉ. डी. सावंत, एसएमएस के प्लास्टिक सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. प्रदीप गोयल, ऑकोलोजी विभाग एसएमएस के विभागाध्यक्ष डॉ. राज गोविन्द शर्मा थे। कार्यशाला में बड़ी संख्या में चिकित्सकों ने भाग लिया।