जयपुर।

लगातार 7 दिन तक जयपुर के शास्त्रीनगर इलाके में 7 साल की एक मासूम के साथ दुष्कर्म करने के बाद आतंक का पर्याय बना जीवाणु उर्फ सिकंदर 15 साल से अपराधी है।

उसने 12 साल पहले जयपुर में ही एक बच्चे के साथ कुकर्म कर उसकी हत्या कर दी थी, उसके बाद उसकी लाश के टुकड़े कर पानी की टंकी में डाल दिया था।

जिसके बाद वह आजीवन कारावास की सजा भोग रहा था, लेकिन 2015 में उसको जमानत मिल गई थी।

दुष्कर्म के आरोपी जीवाणुओं के ऊपर एक दर्जन थानों में मुकदमे दर्ज है।

2004 में मुरलीपुरा क्षेत्र में एक बालक को ले जाकर उसके साथ कुकर्म करने के बाद हत्या कर उसके टुकड़े टुकड़े करने के बाद पानी की टंकी में डाल दिया था।

इससे पहले वह ब्रह्मपुरी इलाके में कपड़े व पीतल के बर्तन चुराने का काम करता था।

जयपुर पुलिस ने कोटा के भीमगंज मंडी में जीवाणु को पकड़ लिया। कॉन्स्टेबल शिवराज ने उसकी निगरानी की और शनिवार को जब वह चाय पीने गया तो उसको पकड़ लिया।

सूचना के बाद जयपुर पुलिस ने उसको जयपुर ले आया। सिकंदर उर्फ जीवाणु के कमरे में भी कॉपी मिली है।

उसने एक लड़की की फोटो बना रखी है, और उसकी आंखों से आंसू निकलते हुए दिखाएं, इसमें लिखा है शहनाज बानो।

उसी को पी के दूसरे पड़ने पर खुद की फोटो बना रखी है और वहीं एक पन्ने पर उसने बड़े अक्षरों में सिकंदर लिखा है।

पुलिस ने बताया कि 2001 में सुभाष चौक कोतवाली से उसने वारदातों की शुरुआत की।

मुरलीपुरा में एक 11 साल के बच्चे के साथ कुकर्म हत्या की, उसके बाद 2006 में पुलिस की दौड़ भाग गया था।

2016 में मुरलीपुरा विश्वकर्मा में चोरियां की भट्टा बस्ती में 2 बच्चों से छेड़छाड़ की और पुलिस पर हमला किया।

इसके बाद 2019 में दो बच्चों से शास्त्री नगर थाने में बलात्कार किया। जिनमें से एक बच्ची 4 साल की और दूसरी 7 साल की है।

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि सिकंदर और शादी के कागजों के आधार पर 2015 में जमानत लेने में सफलता पाई थी।