-बांधो की सुरक्षा के लिए मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम, जयपुर के रामगढ़ व जोधपुर के उम्मेद सागर बांध के बहाव क्षेत्र में हटाये जाए अतिक्रमण, लोक सभा में बांध सुरक्षा विधेयक 2019 की चर्चा में बोले सांसद हनुमान बेनीवाल।
Delhi

लोकसभा में शुक्रवार को सांसद हनुमान बेनीवाल ने बांध सुरक्षा विधेयक 2019 की चर्चा में बोलते हुए राजस्थान के नागौर से रालोपा सांसद हनुमान बेनीवाल ने विभिन्न मुद्दों को सदन में रखा।

उन्होंने बिल पर बोलते हुए कहा कि सदन में आज बांधों की सुरक्षा हमारे लिए बहुत महत्पूर्ण है, क्योंकि बांधों के टूटने से देश में कई बार बड़े नुकसान आम जन को उठाने पड़े।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और जल शक्ति मंत्री इस विधेयक के लिए धन्यवाद के पात्र हैं।

बेनिवाल ने कहा कि इस विधेयक से बांध सुरक्षा व्यवस्था में सुधार करने में मदद मिलेगी और देश में स्थित 5344 बड़े बांधो और 400 से अधिक निर्माणधीन बांधों की सुरक्षा सुनिश्चित होगी।

साथ ही कहा कि देश में 293 बाँध ऐसे हैं, जिनका इतिहास 100 वर्षों से भी अधिक पुराना है।

उन्होंने विधेयक के उद्देश्यों एवं कारणों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बांध महत्वपूर्ण आधारभूत संरचनाएं हैं, जिसका सिंचाई, विद्युत उत्पादन, बाढ़ नियंत्रण, पेयजल और औद्योगिक प्रयोजनों एवं इसके बहुद्देश्यीय उपयोगों के लिए बड़े पैमाने पर निवेश किया जाता है।

कोई असुरक्षित बांध मानव जीवन, पारिस्थितकी और सार्वजनिक एवं निजी परिसम्पत्तियों के लिए संकट का कारण बन सकता है, इसलिए बांधों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाना राष्ट्रीय उत्तरदायित्व बन जाता है ऐसे में इस विधेयक की जरूरत पड़ी।

विपक्ष पर तंज कसते हुए बेनीवाल ने कहा कि पानी की समस्या पार्टी विशेष की नहीं, फिर विरोध क्यों कर रहे हो?

सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि विपक्ष के साथी हर बिल का विरोध कर रहे है, मैं उनसे यह पूछना चाहता हूँ देश में जो जल समस्या है वो किसी पार्टी की व्यक्तिगत नहीं है।

जल संरक्षण के लिए अगर कोई कदम उठाया जाता है तो विपक्ष में बैठे लोग क्यों उसका विरोध कर रहे हैं? देश की जनता इस बात को देख रही है।

सांसद ने कहा कि बांध सुरक्षा विधेयक 2019 में राष्ट्रीय बांध सुरक्षा कमिटी की स्थापना की बात कही गई है, यह समिति बांध सुरक्षा संबंधी नीति विकसित करेगी।

यह समिति ऐसे विनियमों की सिफारिश करेगी जो उस प्रयोजन के लिये उपेक्षित हो। राष्ट्रीय बांध सुरक्षा समिति की सिफ़ारिशों के आधार पर यह बिल जो आज लाया जा रहा है बांधों के संरक्षण में एक महत्पूर्ण कदम साबित होगा।

राजस्थान के लिए की यह मांग।

सांसद ने जयपुर के रामगढ़ बांध,जोधपुर के उम्मेद सागर बांध सहित कई बांधो का जिक्र करते हुए कहा कि इनके बहाव क्षेत्र में उच्च न्यायालय और सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बावजूद अतिक्रमण नही हटाया जा रहा है,इसलिए बांधो की दुर्गति हो गई और राजस्थान में वर्तमान सत्ता धारी दल की सरकार के करीबी लोगों ने रामगढ़ बांध के बहाव क्षेत्र में कब्जा कर रखा है ,इस पर केंद्र को दखल देने की जरूरत है साथ ही सांसद ने राजस्थान में सिंचाई की परियोजना लाने की भी मांग की और उदाहरण देते हुए कहा कि हमारे मारवाड़ में महिलाये 7 किलोंमीटर तक पैदल जाकर घड़े पर पानी लाती थी मगर पीने के पानी के लिए कई स्थानों पर नहरी योजनाएं बनी और अब जरूरत है सिंचाई के लिए योजना बनाई जाए !