दलित महिलाओं के साथ उत्पीड़न का केन्द्र बना राजस्थान

-बेहतर होता कि गहलोत सरकार झूठे घोषणापत्र की समीक्षा करने के बजाय, प्रदेश के अपराधों की समीक्षा करती। आज अक्टूबर को हैशटैग ‘‘क्राइम कैपिटल राजस्थान’’ के साथ ट्विटर पर अभियान चलायेगी भाजपा। प्रदेश में महिलाओं एवं बच्चियों पर बढ़ते अपराध के खिलाफ भाजपा का 05 अक्टूबर को प्रदेशभर में हल्ला बोल

जयपुर। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां (satish poonia) ने ट्वीट कर कहा कि, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश की राजनीति करने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (ashok gehlot) अपने ही प्रदेश में गृह मंत्री (home minister) के नाते अपराधों पर नियंत्रण में पूर्णतया विफल रहे हैं।


डाॅ. पूनियां ने कहा कि, राजस्थान खासतौर पर दलित महिलाओं के साथ उत्पीड़न का केन्द्र बन गया है। नेशनल क्राइम रिकाॅर्ड ब्यूरो (NCRB) कहता है कि, राजस्थान दुष्कर्म (RAPE) के मामलों में पहले नंबर पर है, अपराधों के मामले में दूसरे स्थान पर है, यह स्थिति चिंतानजक एवं दुर्भाग्यपूर्ण है, इन मामलों को लेकर भाजपा (BJP) राज्यपाल से हस्तक्षेप की मांग करेगी।


उन्होंने आह्वान करते हुये कहा कि, सभी जिला मुख्यालयों पर 05 अक्टूबर को सुबह 11 बजे प्रदेशव्यापी हल्ला बोल कार्यक्रम में पार्टी के जनप्रतिनिधि, प्रमुख कार्यकर्तागण कांग्रेस (congress) सरकार को चेताने के लिये पूरी मजबूती से प्रदर्शन में सक्रिय तौर पर भागीदारी सुनिश्चित करें।

पीड़ितों एवं उनके परिजनों के आंसू पोंछने का कार्य करें। उन्होंने कहा कि, प्रदेशभर में पीड़ित माताओं-बहनों पर अत्याचारों की एक लंबी फेहरिस्त है, लेकिन न्याय दिलाने के लिये सरकार की कान पर जूं तक नहीं रेंगी।

सोई हुई गहलोत सरकार को जगाने के लिये भाजपा 04 अक्टूबर को हैशटैग ‘‘क्राइम कैपिटल राजस्थान’’ (crime capital rajasthan) के साथ ट्विटर पर अभियान चलायेगी।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट होंगे गृहमंत्री, इनपर टिकी है कांग्रेस की गहलोत सरकार की इज्जत.


डाॅ. पूनियां ने कहा कि, विगत 20 महीनों में अशोक गहलोत के राज में प्रदेश अपराधों की राजधानी बन गया है, महिलाओं के प्रति दरिंदगी बढ़ गई, अपराधी बेलगाम हो गए, यह मात्र सियासी आरोप नहीं हैं, इनकी पुष्टि नेशनल क्राइम रिकाॅर्ड ब्यूरो के आंकड़े करते हैं।


उन्होंने कहा कि, यह हास्यास्पद है कि गहलोत सरकार अपने जनघोषणा पत्र के कार्यों की समीक्षा कर रही है। बेहतर होता कि मुख्यमंत्री एक समीक्षा राजस्थान के अपराधों की कर लेते, आज प्रदेश अपराधों की राजधानी बन गया है, इन 20 महीनों में लाखों की तादाद में दर्ज मुकदमे और उन मुकदमों में भी अंबार है डकैती, हत्या, लूटपाट, दुष्कर्म, गैंगरेप इत्यादि।

कांग्रेस का घोषणापत्र झूठ का पुलिंदा है, किसानों, नौजवानों, मजदूरों और महिलाओं एवं हर वर्ग को इन्होंने झूठे वादों से ठगा है, वो सब जनता के सामने है।