राजस्थान में हरदिन 16 बलात्कार होते हैं, 94% जान पहचान वाले ही नोचते हैं इज़्ज़त

नई दिल्ली। यूपी के हाथरस के बाद महिला सुरक्षा को लेकर तमाम तरह के सवाल उठ रहे हैं। लेकिन महिलाओं की आबरू को लेकर सर्वाधिक मामले राजस्थान से सामने आये हैं, जहां हर दिन 16 लड़कियों, कन्याओं, महिलाओं, औरतों की इज़्ज़त से खिलवाड़ किया जाता है।

देश में इस घृणित अपराध पर वास्तविक स्थिति क्या है? इसे बिना सही आँकड़ों के नहीं समझा जा सकता। इसके बिना मामले से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कौन सी सरकार औरतों को सुरक्षा प्रदान करने में सबसे ज्यादा विफल है, वह है राजस्थान की सरकार।

NCRB के आँकड़ों से समझने की कोशिश करें तो राजस्थान में सबसे अधिक रेप की घटनाएँ हुईं। यहां पर NCRB की सूची बताती है कि साल 2019 में 6051 राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप हुए हैं।

इस दौरान भारत में 30,641 मामले रेप के केस दर्ज किए गए थे। इनमें बलात्कार पीड़िताओं की संख्या 30868 है। यही रिपोर्ट बताती है कि 94% मामलों में रेप पीड़िता के साथ बलात्कार करने के आरोपित जान-पहचान थे।

इसके बाद सूची के अनुसार केरल में 2023 मामले आए। इसी तरह असम में  1773, हरियाणा में 1480, झारखंड में 1416 और ओडिशा में 1382 मामले सामने आए।

देश की राजधानी दिल्ली में 1253 रेप के मामले दर्ज किए गए। सिक्किम में यह संख्या 11, पुडुचेरी में 10, नागालैंड में 8 और दादर नगर हवेली तथा लक्षद्वीप में 0 मामले सामने आए।

महाराष्ट्र 2299 रेप के मामलों के साथ चौथे नंबर पर आता है। यहाँ रेप पीड़िताओं की संख्या 2305 है। प्रतिदिन औसतन 6 रेप हुए और प्रति लाख जनसंख्या पर अपराध का दर 3.9 रहा।

यह भी पढ़ें :  बसपा विधायकों पर लटकी तलवार, गहलोत सरकार के गिरने तक की नौबत आ सकती है!

तीसरे नंबर पर मध्यप्रदेश है। यहाँ कुल 2485 मामले रिकॉर्ड किए गए। पीड़िताओं की संख्या 2490 दर्ज की गई और प्रति लाख जनसंख्या के हिसाब से अपराध की दर 11.1 रही। प्रतिदिन औसत प्रदेश में 6.8 थी।

हाथरस, बलरामपुर आदि मामलों के बाद से चर्चा में आ रहे उत्तर प्रदेश में 2019 में 3065 मामले दर्ज किए गए और पीड़िताओं की संख्या 3131 रही। यानी प्रतिदिन औसत वहाँ करीब 8 मामले रिकॉर्ड हुए।

प्रदेश में प्रति लाख जनसंख्या पर यदि अपराध के आँकड़े देखें तो दर 2.8 है। साथ ही सूची में उत्तर प्रदेश का स्थान कुल 36 राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों में 24वाँ है।

सूची के मुताबिक सबसे ज्यादा बलात्कार की घटनाएँ राजस्थान में सामने आई थीं। वहाँ पिछले साल 5997 मामले दर्ज किए गए। यानी प्रतिदिन का औसत देखा जाए तो प्रदेश में हर दिन 16 रेप की घटना हुईं। सूची, रेप पीड़िताओं की संख्या भी प्रदेश में 6051 बताती है। इतना ही नहीं प्रदेश में प्रति लाख जनसंख्या पर अपराध की दर 15.9 है।