अशोक गहलोत सरकार के 21 माह पूरे, 5 अक्टूबर को भाजपा का फिर ‘हल्ला बोल’

जयपुर। राजस्थान की कांग्रेस वाली अशोक गहलोत सरकार को 21 महीने पूरे हो गए हैं, लेकिन इन 21 महीनों के दौरान गहलोत की सरकार ने महिला अत्याचार को लेकर नया रिकॉर्ड कायम किया है।

राष्ट्रीय क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक राजस्थान में वर्ष 2019 के दौरान महिला अत्याचारों के मामले उत्तर प्रदेश के (3131) मुकाबले लगभग दोगुनी (6051) घटित हुए हैं।

इसी को लेकर राज्य की भारतीय जनता पार्टी, जो कि प्रदेश में प्रमुख विपक्षी दल है के द्वारा 5 अक्टूबर को प्रत्येक जिला स्तर पर हल्ला बोल किया जाएगा। इसके साथ ही राज्यपाल को ज्ञापन देकर प्रदेश के अपराधों को लेकर शासन की समीक्षा करने का आग्रह किया जाएगा

भाजपा के अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने का है कि 5 अक्टूबर को राज्य की सरकार की विफलताओं को लेकर हल्ला बोल कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा है कि अशोक गहलोत सरकार ने महिला अत्याचार के मामले में एक नया रिकॉर्ड कायम किया है। इसको लेकर राज्य सरकार की विफलता जनता के सामने रखी जाएगी।

20201003 121435 1

क्या कहा है डॉ पूनियां ने

हम प्रदेश की अराजक गहलोत सरकार के खिलाफ सोमवार 5 अक्टूबर को जिला केंद्रों पर “हल्ला बोल” कर प्रदर्शन करेंगे। साथ ही राज्यपाल महोदय से राज्य की लचर कानून व्यवस्था की समीक्षा कर हस्तक्षेप की मांग करेंगे।

विगत 20 महीनों में अशोक गहलोत के राज में राजस्थान सर्वाधिक अपराध ग्रस्त राज्यों में शामिल होकर अपराधों की राजधानी बन गया है, महिलाओं के प्रति दरिंदगी बढ़ गई और अपराधी बेलगाम हो गए हैं, यह मात्र सियासी आरोप नहीं है, इनकी सबकी पुष्टि NCRB के आंकड़े करते हैं।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान का पहला ऑर्गेनिक फ्रेश फार्मर मार्केट खुला

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश की राजनीति करने वाले मुख्यमंत्री अपने ही प्रदेश में गृह मंत्री के नाते अपराधों पर नियंत्रण में पूर्णतया विफल रहे हैं।