भाजपा प्रदेश युवा मोर्चा की दौड़ में राजेश गुर्जर सबसे आगे, 5 नाम अन्य भी हैं

– जोगेंद्र सिंह राजपुरोहित, श्याम शर्मा, अभिमन्यु सिंह राजवी, प्रेम सिंह बनवासा और लक्ष्मीकांत भारद्वाज भी दौड़ में।

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के द्वारा एक दिन पहले ही अपनी टीम का ऐलान किया गया है। जेपी नड्डा ने अपनी टीम में राजस्थान से पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, जयपुर ग्रामीण से सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़, राज्यसभा सांसद भूपेंद्र सिंह यादव और प्रदेश भाजपा की उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक अलका गुर्जर को स्थान दिया गया है।

सबसे रोचक और युवाओं को संदेश देते हुए जेपी नड्डा ने अपनी टीम में राष्ट्रीय युवा मोर्चा की कमान तेजस्वी सूर्या को अध्यक्ष बनाकर पूरे प्रदेशों के प्रदेश अध्यक्ष के सामने देख लक्ष्मण रेखा खींच दी है।

कर्नाटक से आने वाले और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से अपने करियर की शुरुआत करने वाले तेजस्वी सूर्य को लेकर कहा जाता है कि कारगिल युद्ध के दौरान उन्होंने केवल 9 साल की उम्र में कारगिल के योद्धाओं के लिए पेंटिंग बनाकर राष्ट्र के प्रति अपनी भावना को दर्शा दिया था।

27 साल की उम्र में भारतीय जनता पार्टी के द्वारा उनको कर्नाटक से लोकसभा को उम्मीदवार बनाया गया। उन्होंने चुनाव जीतने में कामयाबी हासिल की गई और अब केवल 29 साल की उम्र में उनको भाजपा युवा मोर्चा की राष्ट्रीय टीम का नेतृत्व सौंपा गया है।

जिस तरह से भाजपा युवा मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष केवल कौन 29 साल की उम्र में तेजस्वी सूर्या को बनाया गया है, उससे अब पूरे देश में यह संदेश चला गया है कि सभी प्रदेशों में युवा मोर्चा की कमान 35 साल से कम उम्र के युवाओं को सौंपी जाएगी।

यह भी पढ़ें :  संकट के समय देश के प्रत्येक व्यक्ति को इस तरह से राहत दी है नरेंद्र मोदी सरकार ने

राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया के द्वारा अभी युवा मोर्चा, ओबीसी मोर्चा, एसटी मोर्चा, एससी मोर्चा, किसान मोर्चा समेत तमाम मोर्चा के अध्यक्ष के नाम का ऐलान नहीं किया गया है।

ऐसे में अभी राजस्थान में भी 35 साल से कम उम्र के युवा को युवा मोर्चा की कमान सौंपी जाने की चर्चा शुरू हो गई है। युवा मोर्चा के अध्यक्ष की दौड़ में वर्तमान में भाजपा युवा मोर्चा में महामंत्री राजेश गुर्जर का नाम सबसे ऊपर बताया जा रहा है।

FB IMG 1601194602417

इसके साथ ही जोगेंद्र सिंह राजपुरोहित, श्याम शर्मा, अभिमन्यु सिंह राजवी, प्रेम सिंह बनवासा और लक्ष्मीकांत भारद्वाज को भी अध्यक्ष बनाने की चर्चा हो रही है।

लक्ष्मीकांत भारद्वाज के साथ सबसे बड़ी समस्या उनके उम्र है। लक्ष्मीकांत भारद्वाज वर्तमान में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता हैं और उनकी उम्र 35 साल से अधिक हो चुकी है। भाजपा ने पिछले कुछ वर्षों से युवा मोर्चा के अध्यक्ष की उम्र अधिकतम 35 वर्ष निर्धारित कर रखी है।

ऐसे में इस दौड़ में लक्ष्मीनाथ भारद्वाज बाहर हो जाते हैं, लेकिन पहले मंत्री फिर महामंत्री और अभी लगातार अतिसक्रिय रहकर प्रदेश की भाजपा का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर रहे राजेश गुर्जर इस दौड़ में सबसे ऊपर बताए जा रहे हैं।

भाजपा की तमाम योजनाओं को लेकर राजेश गुर्जर सोशल मीडिया पर भी लगातार सक्रिय रहते हैं। प्रदेश में दी जाने वाली जिम्मेदारियों को लेकर भी ज्यादा तवज्जो देते हुए प्रदेश के प्रवास पर रहने के साथ ही युवाओं के संपर्क में भी रहते हैं।

राजेश गुर्जर इससे पहले भाजपा अध्यक्ष बनाए सतीश पूनिया की ताजपोशी के वक्त भाजपा मुख्यालय में अपना शक्ति प्रदर्शन कर चुके हैं। इसके साथ ही पिछले काफी समय से भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में हैं।

यह भी पढ़ें :  आरएसएस केनेताओं-दफ्तरों पर आंतकी हमले का खतरा, विधानसभा में गूंजी आरएसएस दफ्तरों की सुरक्षा बढ़ाने की मांग
FB IMG 1601194605895

गुर्जर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोगों के संपर्क में भी बताए जा रहे हैं। राजेश गुर्जर के बाद दूसरा नाम जोगेंद्र सिंह राजपुरोहित, तीसरा नाम श्याम शर्मा, चौथ का नाम अभिमन्यु सिंह राजवी और पांचवा नाम प्रेम सिंह बनवासा का आता है। इसके अलावा भी काफी लोग युवा मोर्चा की कमान संभालने के लिए सक्रिय हैं।

भाजपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के द्वारा अपने टीम की घोषणा किये जाने के बाद अब राजस्थान समेत तमाम प्रदेशों के प्रदेश अध्यक्षों के ऊपर भी अपने टीम में बचे हुए सभी मोर्चा अध्यक्ष और उनकी कार्यकारिणी का ऐलान किए जाने का दबाव बन गया है।