हनुमान बेनीवाल ने लीलण एक्सप्रेस का संचालन यथावत रखने का लोकसभा में उठाया मुद्दा

-अम्बुजा सीमेंट की लीज को निरस्त करने की मांग की

Delhi /Jaipur /Nagaur. राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक तथा नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने मंगलवार देर रात तक चली लोकसभा में जयपुर जाने वाली लीलण एक्सप्रेस के मार्ग को पूर्व की भांति यथावत संचालन करने की तरफ सरकार का ध्यान आकर्षित किया।

सांसद बेनीवाल ने शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि यह ट्रेन बीकानेर से नोखा, नागौर, मेड़ता, कुचामन होते हुए जयपुर जाती थी। यह ट्रेन धार्मिक, पर्यटन व सामरिक दृष्टि से अत्यंत महत्पूर्ण है, क्योंकि सैंकड़ों कार्मिक नियमित इसमें आवागमन करते हैं।

साथ ही ट्रेन का नाम लोक देवता तेजाजी महाराज की घोड़ी के नाम से पूर्व में एनडीए की सरकार में ही हुआ। इसलिए ट्रेन का संचालन जन भावनओं से भी जुड़ा हुआ है। सांसद ने ट्रेन के यथावत संचालन हेतु रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र भी दिया।

सांसद बेनीवाल ने मंगलवार को लोकसभा में नियम 377 के तहत नागौर जिले के मुंडवा में निर्माणाधीन अम्बुजा सीमेंट प्लांट कंपनी द्वारा गलत तथ्य प्रस्तुत करके ली गई पर्यावरणीय स्वीकृति को निरस्त करने की मांग की।

इसके साथ ही सांसद ने सदन को अवगत करवाया की उक्त कम्पनी में सरकार को जो दस्तावेज प्रस्तुत किये गए हैं, उनमें गलत तथ्य व झूठे शपथ पत्र दिए गए थे।

मंगलवार को लोक सभा में सांसदों द्वारा नियम 377 के तहत लगाये गए मामलों को लिखित में ही लिया गया।

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर को दिया पत्र सांसद हनुमान बेनीवाल ने केंद्रीय भारी उद्योग एवं वन तथा पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखित में पत्र देकर मूंडवा में निर्माणाधीन अंबुजा सीमेंट प्लांट नामक कंपनी की शिकायत भी की।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान विश्वविद्यालय का कमाल: दूसरी बार की प्रैक्टिकल फीस के 15 लाख रुपए की वसूली

सांसद ने मंत्री जावड़ेकर को लिखे पत्र में अवगत करवाया कि पर्यावरण संरक्षण हमारा दायित्व है। ऐसे में पर्यावरण, तालाब की स्थिति गोचर, मुंडवा शहर से दूरी को गलत दर्शा कर उक्त कम्पनी द्वारा सरकार की आंखों में धूल झोंकी गई।

इसलिए इस पूरे मामले में जांच करवाकर ईसी को निरस्त किया जाये व सम्बंधित कम्पनी के खिलाफ आपराधिक मुकदमा भी दर्ज किया जाए।