वसुंधरा राजे को लेकर ये फर्जी खबरें कौन फैला रहा है?

जयपुर/नई दिल्ली। राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे को लेकर इन दिनों सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें वायरल हो रही है। इस तरह की सूचनाएं और समाचार कुछ चुनिंदा लोगों द्वारा वायरल किये जाते हैं।

प्रदेश भाजपा इकाई की तरफ से और राष्ट्रीय कार्य की तरफ से अभी तक वसुंधरा राजे को लेकर उनके राजनीतिक भविष्य के बारे में ना कोई संकेत दिया गया है और ना ही कोई घोषणा की गई है, इसके बावजूद सोशल मीडिया पर उनको फिर से राजस्थान में सक्रिय करने की फर्जी खबरें फैलाई जा रही हैं।

प्रदेश भाजपा के नेताओं का कहना है कि उनको इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि वसुंधरा राजे को राष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रीय महामंत्री राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया जाएगा या फिर राजस्थान में कोई जिम्मेदारी सौंपी जाएगी।

इसके बावजूद सोशल मीडिया पर कुछ डिजिटल मीडिया के द्वारा वसुंधरा राजे को लेकर तरह तरह की अफवाह फैलाने का काम किया जा रहा है। जिन लोगों के द्वारा इस तरह की बिना किसी प्रमाणिकता के खबरें लिखी जाती हैं, उनकी सोशल मीडिया पर काफी थू थू भी हो रही है।

गौरतलब है कि राजस्थान में वसुंधरा राजे के द्वारा ओब्लाइज्ड किए हुए कुछ ऐसे पत्रकार हैं, जो समय-समय पर उनके राजस्थान में फिर से एक्टिव होने व प्रदेश नेतृत्व को चुनौती देने की बिना सिर-पैर की खबरें लिखते रहते हैं।

आपको बता दें कि वसुंधरा राजे पिछले 4 दिन से दिल्ली में है और कब वह अपने निवास पर हैं, जबकि राजस्थान में कुछ पत्रकारों के द्वारा बिना कोई सूचना के वसुंधरा राजे की जेपी नड्डा समेत भाजपा के बड़े नेताओं के साथ मुलाकात होने की खबरें लिखी जा रही हैं।

यह भी पढ़ें :  विधानसभा सत्र शुरू होने से 1 दिन पहले 30 आईएएस अधिकारियों के तबादले, जानिए किसको कहां लगाया है

भाजपा की दिल्ली सूत्रों का दावा है कि अभी तक वसुंधरा राजे ने न तो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से और ना ही राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष से मुलाकात की है, इसके बावजूद राजस्थान में इस तरह की खबरें कौन से लाता है इसका कुछ पता नहीं है।

आपको बता दें कि जब से राजस्थान में भाजपा ने उनके विरोधी माने जाने वाले सतीश पूनिया को पार्टी की कमान सौंपी है तब से वसुंधरा राजे काफी असुरक्षित महसूस कर रही हैं, शायद यही कारण है कि उनके समर्थकों के द्वारा इस तरह की अफवाह फैलाने का काम किया जाता है।