सरकार ने किसानों को बांट दिया बाजरे का नकली बीज, पैदावार पर पड़ा बुरा असर

-किसानों को वितरित की गए नि:शुल्क बाजरे के बीज का मामला

-HBB226 ब्रांड के बाजरे के बीज के वितरण से किसानों को नहीं मिल पाया मेहनत का प्रतिफल

-विधायक शर्मा ने कृषि विभाग के दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर कृषि मंत्री को लिखा पत्र

जयपुर। राज्य सरकार ने निशुल्क वितरण किए जाने वाले बाजरे के बीच में भारी घपला किया है। खरीफ की फसल के लिए बाजरे का चौक बीच वितरित किया गया है वह घटिया क्वालिटी का है। सरकारी तंत्र के द्वारा किए गए घोटाले का परिणाम अब किसान भुगत रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्य प्रवक्ता व विधायक रामलाल शर्मा ने किसानों को जयपुर जिले की भौगोलिक स्थिति के अनुसार बाजरे के बीज का वितरण नहीं करने को लेकर राजस्थान सरकार पर हमला किया है।

उन्होंने कृषि मंत्री लालचंद कटारिया को पत्र लिखकर इस पूरे मामले की जांच करवाकर दोषी अधिकारी, कर्मचारियों पर कार्रवाई करने की मांग की है।

विधायक रामलाल शर्मा ने बताया कि जयपुर जिले की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए जयपुर जिले एवं आसपास के क्षेत्र में कृषि विभाग द्वारा 6 प्रकार की बाजरे की किस्म के बीज का वितरण किया जा सकता था।

परंतु कृषि अधिकारियों की लापरवाही के चलते राजस्थान सरकार द्वारा जयपुर जिले एवं आसपास के क्षेत्र में किसानों को HHB226 किस्म के नि:शुल्क बाजरे का वितरण बिना भौगोलिक स्थिति का जायजा लिए ही कर दिया गया।

जिसका परिणाम क्षेत्र के किसानों को भुगतना पड़ रहा है, सरकार द्वारा निशुल्क वितरित किए गए बाजरे के कारण बाजरे की लंबाई मात्र 4 फीट की रह गई है।

यह भी पढ़ें :  सीबीआई जांच करवा लो फांसी पर लटका दो, लेकिन मैं मानेसर नहीं गया डॉ. पूनियां

जिससे किसानों के चेहरे पर मायूसी आ गई है और राजस्थान सरकार द्वारा वितरित किए गए बाजरे से किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है तथा सरकार ने किसानों की भावनाओं के साथ कुठाराघात करने का काम किया गया है।

विधायक शर्मा ने कहा कि इस संबंध में मेरे द्वारा विधानसभा में भी प्रश्न लगाया था, लेकिन उस प्रश्न का जवाब भी सरकार ने अब तक नहीं दिया है।

प्रश्न मैंने पूछा था कि बाजरे के वितरण के लिए किन कंपनियों को अधिकृत किया गया है, किन कंपनियों के बाजरे का वितरण किया गया है, बाजरे की वैरायटी क्या थी और कितने किसानों को निशुल्क वितरित किया गया।

लेकिन सरकार ने अब तक इस प्रश्न का जवाब नहीं दिया और अब हकीकत सामने आई है कि जयपुर जिले के किसानों के साथ सरकार ने धोखा करने का काम किया है। उनकी मेहनत व परिश्रम पर पानी फेरने का काम किया है।

विधायक शर्मा ने कृषि मंत्री को पत्र लिखकर इस मामले की जांच करवाकर दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है ताकि भविष्य में इस प्रकार की गलती दोहराई ही नहीं जा सके।