मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार पर भारी पड़ा JNU हॉस्पिटल!

जयपुर। राजस्थान की राजधानी जयपुर के जगतपुरा क्षेत्र में स्थित जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी के अस्पताल द्वारा राज्य सरकार के मुखिया, यानी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।

अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला किया गया था कि राज्य में कोरोनावायरस की जांच ₹2200 की जगह अब केवल 1200 में होगी, लेकिन जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के द्वारा अभी तक भी ₹2200 वसूले जा रहे हैं।

IMG 20200918 WA0000

14 सितंबर को सरकार ने यह फैसला किया था, किंतु उसके 4 दिन बाद यानी 17 सितंबर तक भी जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी अस्पताल की तरफ से कोविड-19 की जांच के एवज में ₹2200 की वसूली की जा रही है।

IMG 20200918 WA0001

इस मामले को लेकर जयपुर कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा और जयपुर सीएमएचओ को भी एक आरटीआई एक्टिविस्ट के द्वारा पत्र लिखकर शिकायत की गई है, किंतु ज्ञात जानकारी के मुताबिक अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

उल्लेखनीय है कि शुरुआत में कोविड-19 की जांच के एवज में सरकार ने ₹4500 निर्धारित किए हुए थे। लेकिन बाद में इस को घटाकर ₹2200 कर दिए और 14 सितंबर को इसकी दर में कमी करते हुए ₹1200 किया गया है।

गौरतलब है कि प्राइवेट हॉस्पिटल और प्राइवेट जांच लैब में कोरोनावायरस की जांच का खर्चा महज ₹200 होता है। फिर भी सरकार ने ₹1200 निर्धारित किए हुए हैं, जिसका भी जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी अस्पताल जैसे अस्पतालों के द्वारा पालन नहीं किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  DMRC के 5 राज्य ले गए 4500 करोड़, राजस्थान को हाथ नहीं लगी फूटी कौड़ी