भाजपा की मांग: प्रदेश में सप्ताह में दो दिन पूर्ण लाॅकडाउन करे राज्य सरकार

कोरोना से प्रदेश में हालात बेहद खराब, डाॅक्टर और नर्सिंग स्टाफ की अंशकालिक भर्ती करे सरकार: डाॅ. पूनियां

मुख्यमंत्री चिकित्सा विशेषज्ञों से पहले ही संवाद कर लेते तो लोगों के बेहतर ईलाज और उनकी जान बचाने में मदद मिलती: डाॅ. पूनियां

योग एवं प्राणायाम का प्रचार-प्रसार करे राज्य सरकार और कोविड डेडिकेटेड अस्पतालों की संख्या में वृद्धि करे: डाॅ. पूनियां

जयपुर। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने प्रदेश में कोरोना से बिगड़े हालात पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए राज्य सरकार को प्रदेशभर में सप्ताह में दो दिन पूर्ण लाॅकडाउन की घोषणा करनी चाहिए।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि कोरोना से प्रदेश में बिगड़े हालात के मद्देनजर सरकार को तुरन्त प्रभाव से डाॅक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ की अंशकालिक भर्ती करनी चाहिए, जिससे अस्पतालों में हो रही चिकित्साकर्मियों की कमी को दूर किया जा सके।

साथ ही स्थिति की गम्भीरता को देखते हुए प्रदेश का स्वास्थ्य मंत्रालय यह सुनिश्चित करे कि प्रत्येक अस्पताल में आॅक्सीजन और वेंटिलेटर्स पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता हो।

साथ ही कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पर्याप्त मात्रा में कोविड सेन्टर और उनमें आइसोलेशन वार्ड में बैड की पर्याप्त व्यवस्था करें।

जहाँ कहीं भी संक्रमण की सम्भावना अधिक है, वहाँ पर प्रतिदिन सैनेटाइजेशन की व्यवस्था हो और सरकार के स्तर पर कोरोना गाइडलाइन की पालना सुनिश्चित हो।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि प्रदेश में कोरोना से हालात बेहद खराब हैं। अस्पतालों में अव्यवस्थाओं का आलम है, मरीज एवं उनके परिजन बहुत परेशान हैं।

इस बीमारी से लड़ने की सरकार की तैयारी नाकाफी है, जिसके चलते ना केवल पाॅजिटिव मरीजों की संख्या बेतहाशा बढ़ रही है, बल्कि इससे जान गंवाने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है।

यह भी पढ़ें :  अगले 2 घंटे में जयपुर समेत इन जिलों में बरसात और ओलावृष्टि की संभावना

डाॅ. पूनियां ने मुख्यमंत्री द्वारा वर्चुअल माध्यम से आयोजित कोरोना जागरूकता संवाद पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि जब हालात नियंत्रण से बाहर हो गये हैं।

पाॅजिटिव मरीजों का आँकड़ा एक लाख को पार कर गया है, प्रदेश में इस महामारी के कारण 1250 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

तब मुख्यमंत्री ने चिकित्सा विशेषज्ञों से संवाद करने की प्रक्रिया शुरू की है, जबकि यह सब बहुत पहले हो जाना चाहिए था, ताकि कोरोना को फैलने से रोकने और इससे संक्रमित लोगों के बेहतर ईलाज और उनकी जान बचाने में मदद मिलती।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन के स्वागत समारोह में व्यस्त चल रहे स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा को फुरसत मिले तो अपने स्वास्थ्य विभाग पर गम्भीरता से ध्यान देकर प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्थाओं की स्थिति सुधारने के लिए गम्भीरता से काम करें।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि अभी भी प्रदेश में कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार को चाहिए कि वो इसकी रोकथाम के लिए किये जाने वाले उपायों और सरकारी नियमों का व्यापक प्रचार-प्रसार करे।

इसके लिए सामाजिक जागरूकता के लिए अभियान चलाये, जो नियम सरकार की ओर से बनाये गये हैं, उनका सख्ती से पालन करवायें, प्लाज्मा डोनेशन के लिए लोगों को प्रेरित करें, वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियों को प्रोत्साहित करें।

मास्क और सैनेटाइजर का व्यापक वितरण करें, विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों के देश एवं प्रदेश के प्रतिष्ठित लोगों द्वारा आमजन की जागरूकता के लिए अपील जारी करवायें, लोगों की इम्युनिटी बुस्ट करने के लिए योग और प्राणायाम का प्रचार-प्रसार करें।

लोगों को हो रही परेशानियों को देखते हुए कोविड डेडिकेटेड अस्पतालों की संख्या में वृद्धि करें, निजी एवं राजकीय अस्पतालों का डेली अपडेट जारी करें।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान पुलिस के अफसरों में टेरेटरी बनाने का ट्रेंड, सीनियर IPS और जूनियर IPS के बीच बढ़ रहा विवाद