पायलट, विश्वेन्द्र, रमेश मीणा से सरकारी बंगला खाली करवाएगी गहलोत सरकार?

जयपुर। राजस्थान सरकार में पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट, पूर्व पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह और पूर्व खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा का सरकारी बंगला सरकार सोमवार को खाली करवाएगी।

नियमानुसार तीनों ही पूर्व मंत्रियों को सोमवार को बंगला खाली करना चाहिए, क्योंकि तीनों ही पूर्व मंत्रियों को मंत्रिमंडल से हटाने का समय सोमवार को 2 महीने पूरे हो रहे हैं।

आपको बता दें कि 13 अगस्त को जब तत्कालीन उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के साथ तत्कालीन पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री व तब के खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा ने बगावत कर दी थी।

उसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीनों को ही मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया था। साथ ही सचिन पायलट को प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद से भी बर्खास्त करके उनकी जगह गोविंद सिंह डोटासरा को अध्यक्ष बना दिया था।

नियमानुसार किसी भी विधायक के मंत्री पद से हटने के बाद उसको 60 दिन के भीतर मंत्री का सरकारी निवास खाली करना होता है। ऐसे में सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को सोमवार को 60 दिन का समय पूरा हो रहा है।

हालांकि अभी तक सरकार की तरफ से इस मामले को लेकर ने कोई लिखित आदेश दिया गया है और ना ही बयान आया है, किंतु माना जा रहा है कि सोमवार तक तीनों पूर्व मंत्रियों में से कोई भी सरकारी निवास खाली करने नहीं जा रहा है।

यहां पर उल्लेखनीय यह भी है कि अशोक गहलोत सरकार ने 3 दिन पहले ही राजस्थान हाईकोर्ट में एक शपथ पत्र देकर वसुंधरा राजे से विधायक होने के नाते सरकारी बंगला खाली कराने से इनकार कर दिया है।

यह भी पढ़ें :  बेनीवाल ने सरकार को चेताया, नहीं मानी तो आंदोलन

ऐसे में माना जा रहा है कि अगर अशोक गहलोत सरकार विधायक होने के नाते वसुंधरा राजे से मंत्री लेवल का बड़ा बंगला खाली कराने से इंकार कर सकती है, तो तीनों ही पूर्व मंत्रियों जो कि वर्तमान विधायक हैं, उनसे भी सरकारी बंगलों को खाली कराने से इंकार कर सकती है।