निर्माणाधीन मंदिर की छत गिरी, चार मजदूर दबे, एक मजदूर की मौत

तीन घायलो को निम्स अस्पताल में कराया भर्ती,
मंदिर के पास स्थित एक होटल का मालिक करवा रहा था मंदिर जीर्णोद्धार का कार्य
जयपुर। जयपुर ग्रामीण के चंदवाजी थाना क्षेत्र में अचरोल के पास शुक्रवार को लबाना गांव की तलाई में एक निर्माणाधीन मंदिर की छत भरभरा कर गिर गई।

जिससे काम कर रहे चार मजदूर दब गए। सूचना पर पुलिस व प्रशासन ने ग्रामीणों की सहायता से छत के मलबे के नीचे दबे मजदूरों को बाहर निकाला।

जिसमें छत के नीचे दबने से एक मजदूर की मौत हो गई व तीन मजदूर घायल हो गए। घायलों को एम्बुलेन्स से निम्स अस्पताल पहुचाया गया।


चंदवाजी थानाधिकारी राजेंद्र कुमार ने बताया कि थाना इलाके में स्थित ग्राम पंचायत लबाना के गांव आणि में होटल मालिक द्वारा भोमिया जी मंदिर का जीर्णोद्धार को लेकर मंदिर की पुरानी छत के नीचे दीवार बनाने का काम किया जा रहा था।

इसे लेकर ठेकेदार द्वारा छत के नीचे नई दीवार बनाने को लेकर यहां लगी पुरानी दीवारों को हटा दिया।

जिससे छत का भार पुराने कमजोर पिल्लरों पर आ गया। जो छत का भार सहन नहीं कर पाए और छत भरभराकर नीचे आ गिरी।

अचानक हुई इस घटना से छत के नीचे मंदिर में निर्माण कार्य में लगे चार मजदूर संभल नहीं पाए और छत के नीचे दब गए। अचानक हुई घटना से आसपास के लोग मौका स्थल पर दौड़ पड़े।

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। जहां ग्रामीणों की मदद से दो जेसीबी से छत के नीचे दबे मजदूरों को निकालने का राहत कार्य शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें :  20 फरवरी को अशोक गहलोत पेश करेंगे वर्ष 2020-2021 का वार्षिक बजट

ग्रामीणों की कड़ी मशक्कत के बाद छत के नीचे दबे चारों मजदूरों को निकाला गया तथा 108 एंबुलेंस की सहायता से निम्स अस्पताल पहुंचाया गया। जहां एक मजदूर की मौत हो गई।


अचरोल चौकी प्रभारी पप्पू सिंह ने बताया कि घटना में अजमेर के गांव जूनिया केकड़ी निवासी गुड्डू उर्फ आजाद बैरवा (23) की मौके पर ही मौत हो गई।

वही इस घटना में मृतक की पत्नी आशा देवी(20) तथा पिपल्या पचेवर जिला टोंक निवासी कजोड़ (20) वर्ष व अशोक बैरवा (22)घायल हो गए।

जिन्हें उपचार के लिए निम्स अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां कजोड़ और अशोक को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी। वहीं मृतक की पत्नी आशा देवी का इलाज जारी है।