नशीली कोल्डड्रिंक पिलाकर एक किशोर की अचेतावस्था में किया ऐसा काम  

जयपुर। कानोता इलाके में रिश्तेदारों के नशीली कोल्डड्रिंक पिलाकर एक किशोर की अचेतावस्था में हत्या करने का मामला सामने आया है। प्रकरण में बलात्कार की भी पड़ताल की जा रही है।

मजेदार बात यह है कि मौत के बाद परिजनों को पुलिस का भय दिखाकर दाहसंस्कार भी करा दिया गया। इस संबंध में मंगलवार को परिजनों की ओर से हत्या व साक्ष्य मिटाने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

थानाधिकारी नरेन्द्र कुमार खीचड ने बताया कि नादौती करौली निवासी किशोर मीना ने मामला दर्ज करवाया है कि पुरानी चुंगी आगरा रोड स्थित लक्ष्मी नगर में मकान बनाकर अपनी पत्नी गुलाब देवी, बेटे मनीष और मुकेश के साथ रहता है और एटीएम पर रात्रि के समय गार्ड की नौकरी कर जीवन यापन करता है।

आरोपित पुखराज मीना, भरतलाल मीना व उसकी पत्नी रचिता मीना और बाबूलाल उसके रिश्तेदार है, जिसका घर पर आना-जाना लगा रहा है।

घटनाक्रम के मुताबिक किशोर के घर पर छोटा कार्यक्रम था, जिसमें आरोपित खाना खाने उसके घर आए थे। रात करीब 8 बजे किशोर मीना अपनी ड्यूटी पर चला गया।

सुबह करीब 6 बजे पुखराज बाइक से किशोर के पास पहुंचा और छोटे बेटे मुकेश की तबीयत खराब होने की कहकर तुरंत घर चलने को कहा।

घर आकर देखने पर पत्नी गुलाब देवी व बड़ा बेटा मनीष बैठे-बैठे रो रहे थे और मुकेश को चादर उढाकर लिटा रखा था। चादर हटाकर देखने पर मनीष मृत पड़ा मिला।  

मृतावस्था में बेटे को देखकर किशोर के जोर-जोर से रोने पर रिश्तेदारों ने हल्ला मचाने पर मना किया और कहा कि हल्ला करोगे तो पुलिस आ जाएगी और तुम्हे पकड़ लेगी।

यह भी पढ़ें :  15 साल की किशोरी से 6 जने छह माह से कर रहे थे बलात्कार, 4 की उम्र हैरान करने वाली

पुलिस की धमकी देकर किशोर को चुप करवा दिया गया। जिसके बाद आरोपित भरतलाल व पुखराज एम्बूलेंस ले आए और बेटे मुकेश की लाश को लेकर चुपचाप गांव ले गए।

वहां चुपचाप दाहसंस्कार करवा दिया गया। शमशान में दाहसंस्कार के दौरान बेटे की लाश को देखने पर किशोर को उसके सिर पर दो चोट के निशान दिखाई दिए।

आरोपित भरतलाल व पुखराज से पूछने पर वह वहां से आनाकानी कर चले गए। शक होने पर किशोर मीना ने अपनी पत्नी गुलाब देवी से पूछताछ की।

उसने बताया कि ड्यूटी पर जाने के बाद आरोपित कोल्डड्रिंक की बोतल लेकर आए थे। उसने व दोनों बच्चें को कोल्डड्रिंक पिलाई, जिसके पीने के बाद तीनों अचेत होकर सो गए।

सुबह करीब 5 बजे रचिता ने जगाया और कहा कि तेरे बेटे मुकेश ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। गुलाब देवी के तुरंत उठकर देखने पर मुकेश को नीचे जमीन पर लेटा रखा था और उसके सिर पर चोट के दो निशान थे।

बेटे को मृत देखकर रोने पर आरोपित ने कहा कि हल्ला मत करो, नहीं तो पुलिस को पता चल जाएगा और तुम्हें बंद कर देंगे।

पूछताछ में पत्नी ने किशोर को बताया कि घरेलू कामकाज के लिए आरोपित पूखराज के 60 हजार और भरतलाल के लिए 22 हजार रुपए उधार को वापस लौटने के लिए मुकेश ने तकाजा किया था।

आरोपित व मुकेश का इस बात को लेकर झगड़ा भी हो गया था, जिसके बाद आरोपितों ने सुबह पूरे रुपये देने की कहा था। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पडताल कर रही है। 

यह भी पढ़ें :  एक दिन बाद गहलोत सरकार के खिलाफ फिर बिगुल बजायेंगे सचिन पायलट