31 C
Jaipur
शनिवार, सितम्बर 19, 2020

जन्मदिन मनाकर सचिन पायलट ने अशोक गहलोत को अंदर तक हिलाया

- Advertisement -
- Advertisement -

-पायलट के जन्मदिन पर प्रदेश भर में हुआ 45 हजार से, ज्यादा यूनिट का ऐतिहासिक रक्तदान

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट वर्तमान में सत्ता या संगठन में किसी भी पद पर नहीं हैं। इसके बावजूद उनके जन्मदिन पर ऐतिहासिक कार्यक्रमों का आयोजन कर उन्होंने अशोक गहलोत सरकार को अंदर तक हिलाकर रख दिया है।

प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट के जन्मदिन के अवसर पर सोमवार को प्रदेशभर में कार्यकर्ताओं द्वारा करीब 320 जगह पर रक्तदान शिविरों का आयोजन कर ऐतिहासिक ब्लड डोनेशन का काम किया है।

इन शिविरों का द्वारा जयपुर जिले में लगभग 11 हजार से अधिक लोगों सहित पूरे प्रदेश में लगभग 45 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं रक्तदान किया गया, जो कि प्रदेश के इतिहास में पहली बार किसी राजनेता के लिए किया गया रक्तदान है।

कोरोना के चलते सचिन पायलट ने 4 दिन पहले ही अपने कार्यकर्ताओं को जयपुर नहीं आने तथा अपने-अपने स्थानों पर रहकर सामाजिक सरोकार निभाते हुए पीड़ितों की सहायतार्थ रक्तदान शिविरों का आयोजन करने की अपील की थी।

उनके समर्थकों एवं कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने अपने नेता के जन्मदिन के अवसर पर राज्य में ऐतिहासिक रक्तदान किया। पूरे प्रदेश में ऐसा लग रहा था जैसे किसी साधारण विधायक का नहीं, अपितु राज्य के मुख्यमंत्री या किसी बड़े केंद्रीय मंत्री का जन्मदिन मनाया जा रहा हो।

प्रदेश के बड़े जिलों से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार सबसे ज्यादा जयपुर शहर में 7222, झालावाड़ में 6151, जयपुर देहात 3453, सीकर में 3182, अजमेर में 3181, अलवर में 2390, दौसा में 2211 यूनिट रक्तदान किया गया। इसके अलावा अन्य जिलों से भी रक्तदान से सैंकड़ों यूनिट डोनेट होने की सूचना है।

उपरोक्त रक्तदान शिविरों के अलावा प्रदेश के सभी जिलों में पायलट के 43वें जन्मदिन के मौके पर वृक्षारोपण कार्यक्रम, पशुओं को चारा, नेत्रदान का संकल्प, रक्तदान का संकल्प, देहदान करने का संकल्प लेने और गरीबों में भोजन एवं फल वितरण, गरीब बच्चों को पुस्तक वितरण आदि किये गये।

मजेदार बात यह है कि प्रदेश के विभिन्न इलाकों में पुलिस और प्रशासन के द्वारा सचिन पायलट के समर्थकों के रक्तदान किए जाने के दौरान कोरोना की तमाम बाधाओं का हवाला देते हुए भीड़ एकत्रित होने से रोकने का काम भी किया गया।

सियासी जानकारों का कहना है कि सचिन पायलट के इस भव्य जन्मदिन के अवसर पर एकत्रित हुए 45 हजार यूनिट रक्त और इस मौके पर पूरे प्रदेश में हुए कार्यक्रमों के कारण सचिन पायलट का जनाधार स्पष्ट रूप से सामने आ गया है।

बताया जा रहा है कि पहले से ही दो खेमों में बंटी हुई कांग्रेस पार्टी के लिए और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए सचिन पायलट का जन्मदिन एक अलग ही तनाव लेकर सामने आया है।

माना जा रहा है कि सचिन पायलट ने अपने जन्मदिन पर जो भव्यता और जनता का समर्थन हासिल कर दिखाने का काम किया है, उसके पीछे केवल अशोक गहलोत को संदेश देना नहीं है, बल्कि कांग्रेस आलाकमान को भी अपनी शक्ति का एहसास कराना है।

गौरतलब है कि सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच 13 जुलाई से लेकर 13 अगस्त तक लंबी राजनीतिक जंग चली थी, उसके बाद कांग्रेस आलाकमान की मध्यस्थता के चलते समझौता हुआ।

दोनों नेताओं के बीच समझौता होने के बाद कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने राहत की सांस लेते हुए सोचा था कि अब कांग्रेस की सरकार स्थाई रूप से 2023 तक चलेगी, लेकिन माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच शीतयुद्ध अभी अपने चरम की ओर जा रहा है।

सचिन पायलट को संतुष्ट करने के लिए कांग्रेस आलाकमान की तरफ से प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे को हटाकर उनकी जगह अजय माकन को नया प्रदेश प्रभारी बनाया है तो साथ ही समन्वय समिति के रूप में भी अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और अजय माकन की एक कमेटी बनाई है।

कांग्रेस आलाकमान की तरफ से सचिन पायलट को आश्वासन दिया गया है कि उनका और उनके समर्थक विधायकों का सारा कार्य अशोक गहलोत सरकार करेगी और तमाम शिकायतों का निवारण समन्वय समिति के माध्यम से प्रदेश की सरकार को करना ही होगा।

इस प्रकरण को करीब एक महीना पूरा हो चुका है, लेकिन अभी तक उनके साथ ही विधायकों से शिकायतें भी एकत्रित नहीं की गई हैं। कमेटी के द्वारा अभी तक किसी विधायक से पूछताछ या फिर राजस्थान का दौरा भी नहीं किया गया है।

संभवत यही एक बड़ा कारण है कि अपनी शिकायतों का निवारण नहीं होने की संभावनाओं को देखते हुए सचिन पायलट ने अपने जन्मदिन के अवसर को शक्ति प्रदर्शन के रूप में भुनाने का प्रयास किया है।

माना जा रहा है कि 3 महीने तक यदि समन्वय समिति के द्वारा सचिन पायलट के खेमे के विधायकों की शिकायतों का निवारण नहीं किया गया तो पायलट गुट एक बार फिर से बगावत का रास्ता अख्तियार कर सकता है।

- Advertisement -
जन्मदिन मनाकर सचिन पायलट ने अशोक गहलोत को अंदर तक हिलाया 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

दिल्ली-एनसीआर में हमलों की योजना बना रहे अल कायदा के 9 आतंकी गिरफ्तार (लीड-1)

नई दिल्ली, 19 सितम्बर (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल और केरल में छापे के बाद, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकवादी समूह अल-कायदा से जुड़े नौ...
- Advertisement -

दुबई में बच्चों से मिले संजय दत्त

दुबई, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त अपनी पत्नी मान्यता के साथ दुबई पहुंचने के बाद अपने बच्चों शहरान और इकरा के साथ...

कृषि विधेयक कॉर्पोरेट संस्कृति को बढ़ावा देगा: कांग्रेस नेता

जयपुर, 19 सितंबर (आईएएनएस)। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रमुख गोविंद सिंह डोटासरा ने लोकसभा में कृषि विधेयकों को पारित करने को लेकर शुक्रवार...

दुनियाभर में कोरोना मामलों की संख्या 3.03 करोड़ के पार पहुंची : जॉन्स हॉपकिन्स

वाशिंगटन, 19 सितम्बर (आईएएनएस)। दुनियाभर में कोरोनोवायरस मामलों की कुल संख्या 3.03 करोड़ के पार पहुंच गई है जबकि 950,000 से अधिक लोग इस...

Related news

पिंकी प्रधान आशिक की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल लिव इन रिलेशनशिप में रही!

बाड़मेर। 'पिंकी प्रधान' उर्फ समदड़ी पंचायत समिति प्रधान पिंकी चौधरी अपने आशिक अशोक चौधरी की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल...

बाड़मेर: लड़की भगा ले गया शिक्षक, मिलते ही घरवालों ने किया ऐसा हाल

बाड़मेर। राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर में एक स्कूल के अध्यापक पर जानलेवा हमले और नाक व दोनों कान काटने की घटना सामने...

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...

किसानों को बहकाने और बरगलाने का काम कर रहे कांग्रेस-वामपंथी दल

-मोदी सरकार के तीनों ही विधेयक क्रांतिकारी हैं, किसान को मिलेगी तरक्की, मजबूती और ताकत। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने हमेशा किसानों,...
- Advertisement -