जन्मदिन मनाकर सचिन पायलट ने अशोक गहलोत को अंदर तक हिलाया

-पायलट के जन्मदिन पर प्रदेश भर में हुआ 45 हजार से, ज्यादा यूनिट का ऐतिहासिक रक्तदान

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट वर्तमान में सत्ता या संगठन में किसी भी पद पर नहीं हैं। इसके बावजूद उनके जन्मदिन पर ऐतिहासिक कार्यक्रमों का आयोजन कर उन्होंने अशोक गहलोत सरकार को अंदर तक हिलाकर रख दिया है।

प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट के जन्मदिन के अवसर पर सोमवार को प्रदेशभर में कार्यकर्ताओं द्वारा करीब 320 जगह पर रक्तदान शिविरों का आयोजन कर ऐतिहासिक ब्लड डोनेशन का काम किया है।

इन शिविरों का द्वारा जयपुर जिले में लगभग 11 हजार से अधिक लोगों सहित पूरे प्रदेश में लगभग 45 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं रक्तदान किया गया, जो कि प्रदेश के इतिहास में पहली बार किसी राजनेता के लिए किया गया रक्तदान है।

कोरोना के चलते सचिन पायलट ने 4 दिन पहले ही अपने कार्यकर्ताओं को जयपुर नहीं आने तथा अपने-अपने स्थानों पर रहकर सामाजिक सरोकार निभाते हुए पीड़ितों की सहायतार्थ रक्तदान शिविरों का आयोजन करने की अपील की थी।

उनके समर्थकों एवं कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने अपने नेता के जन्मदिन के अवसर पर राज्य में ऐतिहासिक रक्तदान किया। पूरे प्रदेश में ऐसा लग रहा था जैसे किसी साधारण विधायक का नहीं, अपितु राज्य के मुख्यमंत्री या किसी बड़े केंद्रीय मंत्री का जन्मदिन मनाया जा रहा हो।

प्रदेश के बड़े जिलों से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार सबसे ज्यादा जयपुर शहर में 7222, झालावाड़ में 6151, जयपुर देहात 3453, सीकर में 3182, अजमेर में 3181, अलवर में 2390, दौसा में 2211 यूनिट रक्तदान किया गया। इसके अलावा अन्य जिलों से भी रक्तदान से सैंकड़ों यूनिट डोनेट होने की सूचना है।

यह भी पढ़ें :  Breaking news: ज्योतिरादित्य समेत भाजपा के 11 राज्यसभा उम्मीदवार घोषित, पढ़िए कौन कहां से

उपरोक्त रक्तदान शिविरों के अलावा प्रदेश के सभी जिलों में पायलट के 43वें जन्मदिन के मौके पर वृक्षारोपण कार्यक्रम, पशुओं को चारा, नेत्रदान का संकल्प, रक्तदान का संकल्प, देहदान करने का संकल्प लेने और गरीबों में भोजन एवं फल वितरण, गरीब बच्चों को पुस्तक वितरण आदि किये गये।

मजेदार बात यह है कि प्रदेश के विभिन्न इलाकों में पुलिस और प्रशासन के द्वारा सचिन पायलट के समर्थकों के रक्तदान किए जाने के दौरान कोरोना की तमाम बाधाओं का हवाला देते हुए भीड़ एकत्रित होने से रोकने का काम भी किया गया।

सियासी जानकारों का कहना है कि सचिन पायलट के इस भव्य जन्मदिन के अवसर पर एकत्रित हुए 45 हजार यूनिट रक्त और इस मौके पर पूरे प्रदेश में हुए कार्यक्रमों के कारण सचिन पायलट का जनाधार स्पष्ट रूप से सामने आ गया है।

बताया जा रहा है कि पहले से ही दो खेमों में बंटी हुई कांग्रेस पार्टी के लिए और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए सचिन पायलट का जन्मदिन एक अलग ही तनाव लेकर सामने आया है।

माना जा रहा है कि सचिन पायलट ने अपने जन्मदिन पर जो भव्यता और जनता का समर्थन हासिल कर दिखाने का काम किया है, उसके पीछे केवल अशोक गहलोत को संदेश देना नहीं है, बल्कि कांग्रेस आलाकमान को भी अपनी शक्ति का एहसास कराना है।

गौरतलब है कि सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच 13 जुलाई से लेकर 13 अगस्त तक लंबी राजनीतिक जंग चली थी, उसके बाद कांग्रेस आलाकमान की मध्यस्थता के चलते समझौता हुआ।

दोनों नेताओं के बीच समझौता होने के बाद कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने राहत की सांस लेते हुए सोचा था कि अब कांग्रेस की सरकार स्थाई रूप से 2023 तक चलेगी, लेकिन माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच शीतयुद्ध अभी अपने चरम की ओर जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  अस्पतालों में जांच उपकरण और ऑक्सीजन की उचित व्यवस्था हो

सचिन पायलट को संतुष्ट करने के लिए कांग्रेस आलाकमान की तरफ से प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे को हटाकर उनकी जगह अजय माकन को नया प्रदेश प्रभारी बनाया है तो साथ ही समन्वय समिति के रूप में भी अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और अजय माकन की एक कमेटी बनाई है।

कांग्रेस आलाकमान की तरफ से सचिन पायलट को आश्वासन दिया गया है कि उनका और उनके समर्थक विधायकों का सारा कार्य अशोक गहलोत सरकार करेगी और तमाम शिकायतों का निवारण समन्वय समिति के माध्यम से प्रदेश की सरकार को करना ही होगा।

इस प्रकरण को करीब एक महीना पूरा हो चुका है, लेकिन अभी तक उनके साथ ही विधायकों से शिकायतें भी एकत्रित नहीं की गई हैं। कमेटी के द्वारा अभी तक किसी विधायक से पूछताछ या फिर राजस्थान का दौरा भी नहीं किया गया है।

संभवत यही एक बड़ा कारण है कि अपनी शिकायतों का निवारण नहीं होने की संभावनाओं को देखते हुए सचिन पायलट ने अपने जन्मदिन के अवसर को शक्ति प्रदर्शन के रूप में भुनाने का प्रयास किया है।

माना जा रहा है कि 3 महीने तक यदि समन्वय समिति के द्वारा सचिन पायलट के खेमे के विधायकों की शिकायतों का निवारण नहीं किया गया तो पायलट गुट एक बार फिर से बगावत का रास्ता अख्तियार कर सकता है।