नागौर में पकड़े गए पेट्रोल पंप संचालक के हत्यारे, एक दिन पहले की थी दिन दहाड़े हत्या

जयपुर। राजधानी के विश्वकर्मा थाना इलाके में दिनदहाड़े पेट्रोल पंप संचालक को गोली मार कर 5 लाख की लूट करने वाले चार बदमाश नागौर के रोल थाना पुलिस के हत्थे चढ़ गए।


दिनदहाड़े हुई इस हत्या व लूट की वारदात के बाद हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए जयपुर व आस-पास के तमाम जिलों में पुलिस की ओर से नाकाबंदी की गई थी।

इसी क्रम में नागौर एसपी श्वेता धनकड के निर्देश पर एएसपी राजेश मीणा व सीओ जायल हजारी राम चौहान के सुपरविजन में थानाधिकारी गणेश मीणा अपनी टीम के साथ थाना रोल के सामने नाकाबंदी कर रहे थे। इसी दौरान एक ईनोवा को रोक चैक किया तो उसमे कुल चार व्यक्ति बैठे थे।

7 sep 25 1599462794


थानाधिकारी द्वारा उनका नाम पूछा गया तो वह बार-बार नाम बदल कर बताने लगे। शक होने पर पुलिस ने उनसे गहन पूछताछ की तो उन्होंने जयपुर के विश्कर्मा इलाके में पेट्रोल पंप संचालक निखिल गुप्ता की हत्या करना स्वीकार किया।

इस पर पुलिस ने चार आरोपितों चेतन पुत्र भैरव सिह (18) निवासी हनवंत नगर करघनी, गौतम सिह पुत्र प्रभु सिह (23) निवासी लूणसरा थाना कुचेरा नागौर, जिला इटावा उत्तर प्रदेश निवासी अभय सिह (24) निवासी इटावा उत्तरप्रदेश व चालक पवन यादव पुत्र जसवंत सिह (23) हाल निवासी निवारू रोड झोटवाड़ा को हिरासत में लेकर ईनोवा गाड़ी जब्त कर ली है।


पुलिस को इनोवा में रखे दो थैलों से 2.47 लाख व गौतम सिह के पास 20 हजार, चेतन के पास 10 हजार व अभय सिंह के पास 9 हजार रुपए मिले है। घटना में शामिल अन्य अभियुक्तों के बारे में आरोपितों से पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़ें :  22 फसलों के समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी से किसानों की आर्थिक स्थिति होगी मजबूत

धनकड़ बताया सोमवार सुबह करीब 10-11 बजे के बीच गौतम, अभय, आईदान, भगवान सिह व चेतन दो बाइक से जयपुर में विश्वकर्मा रोड नं-9 पर गए। वहां निखिल गुप्ता अपनी कार से बैंक मे पैसे जमा कराने के लिए आया था।

गाडी से नीचे उतरते ही गौतम ने देसी कट्टे से उसके सीने पर फायर किया जिससे वो नीचे गिर गया। उसी समय आईदान पीडि़त की कार से पैसों से भरा बैग लेकर आ गया ओर वे वहां से मोटरसाइकिलों से भाग गए।


एसपी धनकड़ ने बताया कि घटना स्थल से भाग कर आरोपित गोकुलपुरा की तरफ गए, जहां एक सुनसान जगह पर उन्होंने पैसों का बंटवारा किया। गौतम, अभय सिह व चेतन जयपुर से ईनोवा गाडी किराये कर गौतम सिंह के गांव लुणसरा थाना कुचेरा गए।

वहां पर पीपी चौधरी उर्फ धर्मेन्द्र को एक लाख रुपए व एक देसी कट्टा देकर वापिस नागौर से डीडवाना की तरफ जा रहे थे, नाकाबंदी में थाना रोल पुलिस के हत्थे चढ़ गए।