राजस्थान में कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा कहर, अस्पतालों में नहीं मिल रही जगह

जयपुर। राजस्थान में कोरोनावायरस का कहर बढ़ता जा रहा है। राज्य में अब तक 75000 से ज्यादा मरीज सामने आ चुके हैं, जबकि करीब 11 लोगों की मौत हो चुकी है। सरकारी अस्पतालों में जगह नहीं मिल रही है और प्राइवेट अस्पताल लोगों को लूट रहे हैं।

राजस्थान का सबसे बड़ा कोरोनावायरस सेंटर बना राजस्थान स्वास्थ्य एवं विज्ञान विश्वविद्यालय (RUHS) के अस्पताल में मरीजों के लिए बेड उपलब्ध नहीं है। यहां पर आईसीयू में भी बेड नहीं होने के कारण मरीजों को निजी अस्पतालों में भेजा जा रहा है।

सरकार ने कहा है कि जयपुरिया अस्पताल को फिर से कोरोनावायरस का सेंटर बनाया जाएगा, जहां पर करीब 1 महीने पहले ही कोरोनावायरस के मरीजों का उपचार हो रहा था, लेकिन उसको डिसेंट्रलाइज कर दिया गया था।

दूसरी तरफ देश के सबसे बड़े अस्पताल सवाई मानसिंह चिकित्सालय में कोरोनावायरस के सीमित वार्ड और भीड़ होने के कारण मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। प्राइवेट अस्पतालों में सीतापुरा स्थित महात्मा गांधी अस्पताल के द्वारा मरीजों से प्रतिदिन 6000 से लेकर ₹15000 लिए जा रहे हैं।

राज्य सरकार लगातार चिकित्सा सुविधाएं मुहैया करवाने का दावा जरूर कर रही है किंतु नए मरीजों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। गुरुवार को रात 8:30 बजे तक प्रदेश में प्रतिदिन मरीजों की संख्या 1553 से अधिक हो चुकी है।

ऐसी की जरूरत वाले मरीजों को बेड नहीं मिलने के कारण लगातार मौतों का सिलसिला बढ़ता जा रहा है, तो दूसरी तरफ कोरोनावायरस से पीड़ित मरीजों से लूटने के लिए निजी अस्पतालों के द्वारा उपचार के तरह-तरह से हथकंडे अपनाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  विधायक अशोक लाहोटी द्वारा अशोक गहलोत की शान में कसीदे गढ़ने पर भाजपा में तूफान, क्या होगी कार्यवाही?