युवक-युवती को 400 लोगों के सामने कपड़े उतारकर नहलाया, सभी बनाते रहे वीडियो

सीकर/जयपुर। राजधानी जयपुर के नजदीक सीकर जिले में युवक और युवती के कपड़े उतार कर उनको 400 लोगों के सामने नहलाने लाने का मामला सामने आया है। दोनों को शुद्ध करने के लिए ऐसा किया गया था।

सीकर जिले के ग्राम पंचायत के 16 गांव सांसी समाज के एक युवक और युवती जो रिश्ते में चाची और भतीजा को कपड़े उतरवाकर सबके सामने नंगा नहलाने का प्रकरण का वीडियो वायरल होने के 11 दिन बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

53 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया

सीकर जिले के असिस्टेंट पुलिस अधीक्षक देवेंद्र शर्मा ने बताया कि सांसी समाज के कुछ पंच पटेलों द्वारा पीड़ितों पर ₹53000 का जुर्माना भी लगाया गया है। 21 अगस्त को हुई इस घटना में युवक के ऊपर एक 31000 और एक युवती के परिवार पर ₹22000 का जुर्माना लगाकर खोला गया है।

उन्होंने बताया कि यह पंचायत 21 अगस्त को हुई थी। इस घटना की शिकायत 10 दिन बाद वीडियो वायरल होने पर अखिल राजस्थान सांसी समाज सुधार एवं विकास न्यास के प्रदेश अध्यक्ष सवाई सिंह मालावत ने सीकर जिला पुलिस को दी।

10 दिन पहले हुई थी पंचायत

21 अगस्त को हुई पंचायत में सीकर के अलावा झुंझुनू चूरू और बीकानेर जिले के भी पंच पटेल एकत्रित हुए थे जिसमें युवक और युवती को मेल आते समय एक पुतला सफेद कपड़ा लपेटा गया था।

दोनों को दूध और पानी से नहलाया गया। सजा देने वाले पंच पटेलों में एक सरकारी नौकरी से रिटायर और दूसरा वर्तमान में सरकारी कर्मचारी है। आरोपियों में 10 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है, जिनमें नेमाराम सांसी, सुरेश कुमार और अमीचंद हैं।

यह भी पढ़ें :  कोरोनाकाल में दलीय गैरमौजूदगी से गुस्साए भाजपा नेतृत्व ने वसुंधरा राजे को दिल्ली तलब किया
Screenshot 20200902 072150 Dainik Bhaskar

महिलाएं भी थीं मौजूद

सूचना देने के बाद लक्ष्मणगढ़ के सर्किल इंचार्ज और थाना अधिकारी को घटनास्थल पर भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी गई है। मौके पर 400 लोगों में महिलाएं भी बड़े पैमाने पर थीं।

सफल राजस्थान सांसी समाज सुधार एवं विकास न्यास के प्रदेश महासचिव राकेश कुमार के मुताबिक सांसी समाज में आज भी यह कुप्रथा चल रही है। उन्होंने बताया कि युवक युवती के परिवार जनों के द्वारा कपड़े उतरवाकर नया लाने की इजाजत दी गई थी।

समाज से बाहर कर दिया जाता

अगर ऐसा नहीं करते तो उनको समाज से बाहर कर दिया जाता। ऐसे में उनको समाज के नए किसी कार्यक्रम में बुलाते और ना ही उनके यहां जाते। दोनों के कपड़े उतारकर नहलाने के पीछे उनका शुद्धिकरण करना था।