30 C
Jaipur
गुरूवार, सितम्बर 24, 2020

कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों से पूरे प्रदेश का किसान, आमजन और युवा परेशान है: डाॅ. पूनियां

- Advertisement -
- Advertisement -

-बिजली बिल माफी, बढ़ी हुई बिजली दरें वापस लेने, किसान कर्जमाफी, लम्बित भर्तियाँ पूरी करने, बेरोजगारी भŸाा जारी रखने सहित विभिन्न जनहित के मुद्दों को लेकर श्वेत पत्र जारी करें मुख्यमंत्री गहलोत: डाॅ. पूनियां
-किसान आंदोलन के दौरान मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र में युवा नेता पुखराज की मौत मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस सरकार पर सवालिया निशान खड़ा करती है: डाॅ. पूनियां
-जब वादा पूरा ही नहीं करना था तो क्यों राहुल गाँधी और अशोक गहलोत ने किसानों से कर्जा माफ करने का वादा किया था: डाॅ. पूनियां

जयपुर। भाजपा प्रदेश कार्यालय में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि जोधपुर में पिछले 25 दिनों से किसानों की मांगों को लेकर किसान संघ का आंदोलन चल रहा है।

पूरे प्रदेशभर में ही किसान परेशान है, वहीं जोधपुर में कई दिनों से अनवरत आंदोलन चल रहा है।

उनकी मुख्य मांगे हैं कि कोरोना काल के दौरान बिजली के बिलों में माफी, पूववर्ती सरकार किसानों को 833/- रूपये प्रतिमाह 10 हजार रूपये सालाना अनुदान देती थी, इस सरकार ने आते ही उस अनुदान को बंद किया।


डाॅ. पूनियां ने कहा कि औंसियां में हमारे पूर्व संसदीय सचिव भैराराम सियोल के नेतृत्व में एक बड़ा आंदोलन हुआ और 23 तारीख को व्यापक लाॅकडाउन में 1500 किसानों ने टैªक्टर-ट्राॅली के साथ प्रदर्शन किया।

उन्होंने कहा कि ये अलग बात है कि उन पर महामारी अधिनियम का मुकदमा बना, लेकिन उस आंदोलन की एक बड़ी चर्चा और बड़ा असर उस क्षेत्र में हुआ। कल रात को किसान संघ के इस आंदोलन में जोधपुर के माणकलाव मंे जो धरना चल रहा था, वहाँ युवा नेता पुखराज की धरना स्थल पर तबीयत बिगड़ी और अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

उन्होंने कहा कि सरकार क्या कहेगी, क्या करेगी यह दीगर बात है, लेकिन किसान आंदोलन के दौरान पुखराज की मौत मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र मंे सरकार पर और मुख्यमंत्री के आचरण पर सवालिया निशान खड़े करती है और केवल यही नहीं पिछले दिनों लगातार क्रमिक रूप से 3 आत्महत्याएं चाँदरक के शेरसिंह ने नाड़ी में कूद कर आत्महत्या की, जो कि कर्जे से तंग थे।

नेवरा के मोटाराम ने भी किसान कर्जे से तंग आकर आत्महत्या की। नेवरा रोड़ के जगदीश ने भी इसी तरीके से आत्महत्या की।

ये आत्महत्याएं और इस तरीके से मौतें, ये राजस्थान की सरकार को, राजस्थान के मुखिया को, वो शायद शर्मिन्दा नहीं करती हांेगी, लेकिन उनको विस्मृति नहीं हो जाये, इसलिए मुझे विवश होना पड़ा इन मुद्दों से सरकार को अवगत कराने के लिए।


डाॅ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता राहुल गाँधी और अशोक गहलोत ने विधानसभा चुनाव के दौरान बार-बार किसानों से वादा किया था कि हमारी सरकार आयेगी तो हम किसानों का पूरा कर्जा माफ करेंगे।

उन्होंने कहा कि जिन किसानों ने आत्महत्या की है, ये वो सब लोग हैं जिन पर केसीसी का, सहकारी बैंकों का इस तरीके का कर्जा था, ऐसे ही बड़ी संख्या में किसान है, जो बैंकों के कर्ज तले दबे है। मैं साहूकार के कर्जे की बात नहीं कर रहा और ये कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि सŸाा में आते ही 10 दिन मंे किसानों का कर्ज माफ कर देंगे।

ये बार-बार विस्मृत हो जाते हैं और केवल यही नहीं श्रीगंगानगर के एक किसान जगदीश ने जब आत्महत्या की, उसने तो बाकायदा वीडियो में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री का नाम लिया, मेरी मौत के दोषी ये हंै और अभी भी 20 महीनों बाद भी अपने जन घोषणा-पत्र पर ये सरकार कायम नहीं है।


उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार अपने जन घोषणा-पत्र से यू-टर्न लेती है और यू-टर्न लेने की इनकी पुरानी आदत है, लेते रहें हमें कोई ऐतराज नहीं है।

लेकिन भाजपा प्रतिपक्ष के नाते असंवेदनशील मुख्यमंत्री से ये जवाब मांगती है कि कम से कम राजस्थान का ठेका छोड़ दिया हो तो कम से कम जोधपुर पर तो मेहरबानी करते और इसलिए मैं साफतौर पर सरकार से मांग करता हूँ कि आप में थोड़ी बहुत भी संवेदना बची हो तो किसानों के इस मुद्दे को गम्भीरता से लेते हुए समाधान का रास्ता निकालें, नहीं तो पूरे राजस्थान में किसान आंदोलन करेंगे।


डाॅ. पूनियां ने कहा कि राजस्थान में करोड़ों बिजली के उपभोक्ता इसमें आम उपभोक्ता है, किसान भी है, छोटा व्यापारी भी है, छोटा उद्योग चलाने वाले लोग भी हंै।

आपने अभी तक एक शब्द भी नहीं कहा, क्या कहा आपके बिजली विभाग के मंत्री ने कि बिजली बिलों को माफ करने एवं बढ़ी हुई बिजली दरों को वापस लेने की हमारी जिम्मेदारी नहीं है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत ने अगर थोड़ी भी ईमानदारी और संवदेनशीलता बची है तो आपने किसानों और जनता से जो वादे किये थे उनको पूरा करने को लेकर और आगे का क्या रोड़मैप है इसको लेकर श्वेत पत्र जारी करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि आपने जब चुनाव लड़ा तो प्रदेश के किसान और जनता से वादे क्यों किये, जो आज 20 महीने बाद भी पूरे नहीं हुए।


डाॅ. पूनियां ने कहा कि अपनी मांगों को लेकर आंदोलनों के दौरान जिन किसानों की मौत हो गई और किसानों ने आत्महत्याऐं की उनके लिए सरकार ने क्या किया और एक-एक लाख रूपये का मुआवजे के नाम पर प्रलोभन देकर केवल मात्र लीपापोती की।

राजस्थान का किसान भोला है, शरीफ है, मर्यादित है, लेकिन अब पानी सिर से ऊपर जा चुका है। अब प्रदेश का किसान अपने हक के लिए राज्य सरकार से दो-दो हाथ करने के लिए तैयार है।


उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत अपनी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का गुणगान करते हैं, लेकिन जमीन पर कुछ नहीं है। अब जरूरत है कि मुख्यमंत्री योजनाओं को कागज से धरातल पर लाएं, जिससे किसानों का और आमजन का भला हो सके।

राहुल गाँधी और अशोक गहलोत ने विधानसभा चुनाव के दौरान किसानों से 10 दिन में कर्जा माफ करने का वादा किया था, जो आज तक भी पूरा नहीं हुआ। ऐसी ही भर्तियों को लेकर, बिजली के बढ़ाये गये दामों को वापस लेने सहित विभिन्न वादे हंै जो आज तक भी पूरे नहीं हुए हैं।

इसलिए मेरी राज्य सरकार से मांग है कि जो घोषणा पत्र में जनता एवं किसानों से जो वादे किये उनको लेकर श्वेत पत्र जारी करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था बिगड़ी हुई है, अपराधों बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है, एस.सी./एस.टी. एवं महिला से जुड़े अपराध भी तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन सरकार अपराधों पर शिकंजा कसने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है।


उन्होंने कहा कि कोरोना काल के 4 महीने के बिजली बिल माफी, सम्पूर्ण किसान कर्जमाफी, लम्बित भर्तियों को पूरा करने, बेरोजगारी भŸाा जारी रखने, कानून व्यवस्था को दुरूस्त करने और स्कूल फीस को लेकर कोई उचित रास्ता निकालने सहित भाजपा की राज्य सरकार से विभिन्न मांगे हैं, जिनको जनहित में पूरा करने की आवश्यकता है।

डाॅ. पूनियां के साथ प्रेसवार्ता में प्रदेश महामंत्री एवं विधायक मदन दिलावर, सांसद रामचरण बोहरा, जयपुर शहर जिलाध्यक्ष सुनील कोठारी मौजूद रहे।

- Advertisement -
कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों से पूरे प्रदेश का किसान, आमजन और युवा परेशान है: डाॅ. पूनियां 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

हमने अपनी रणनीति को अच्छे से लागू किया : रोहित शर्मा

अबू धाबी, 24 सितंबर (आईएएनएस)। आईपीएल-13 में बुधवार को अपनी जीत का खाता खोलने वाली मौजूदा विजेता मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने...
- Advertisement -

कर्नाटक में कोरोना के 6,997 नए मामले, कुल आंकड़ा 5.4 लाख के पार

बेंगलुरु, 24 सितंबर (आईएएनएस)। कर्नाटक में बुधवार को कोरोना संक्रमण के 6,997 नए मामले सामने आए। इसके साथ संक्रमित लोगों की कुल संख्या 5,40,847...

टीम के खिलाड़ी जानते हैं, कहां सुधार करना है : कार्तिक

अबू धाबी, 23 सितंबर, (आईएएनएस)। दो बार की विश्व विजेता कोलकाता नाइट राइडर्स को आईपीएल-13 के पहले मैच में मुंबई इंडियंस के हाथों 49...

आईपीएल-13 : मुंबई ने कोलकाता को दिया 196 रनों का लक्ष्य

अबु धाबी, 23 सितंबर (आईएएनएस)। मुंबई इंडियंस ने बुधवार को यहां शेख जायेद स्टेडियम खेले जा रहे आईपीएल-13 के अपने दूसरे मैच में कोलकाता...

Related news

प्रधान पिंकी चौधरी की अशोक को छोड़ नए प्रेमी के साथ भागने की अफवाह?

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति क्षेत्र से प्रधान पिंकी चौधरी के 1 महीने पहले अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भागने...

सचिन पायलट को फंसाने चले थे, अशोक गहलोत खुद आये लपेटे में

भोपाल/जयपुर। मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व...

आईपीएल-13 : बेंगलोर ने हैदराबाद को 10 रनों से दी शिकस्त

दुबई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने सोमवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए आईपीएल-13 के मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को 10...

हनुमान बेनीवाल ने स्थानीय लोगों को नौकरी देने के लिए संसद में उठाई यह मांग

-आरोप-प्रत्यारोप से उपर उठकर मजदूर हितों पर हो सामूहिक चिंतन, 80 प्रतिशत स्थानीय लोगों को रोज़गार देने का बनाया जाए प्रावधान -...
- Advertisement -