राजस्थान का जुगाड़ मशहूर है, जुगाड़ के लिए जादूगर भी मशहूर हैं, जो ‘एलिफेंट ट्रेडिंग’ के आविष्कारक हैं: डॉ. सतीश पूनियां

-भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने सदन में कोरोना कुप्रबंधन, बढ़ते अपराध, किसान कर्जमाफी सहित कई मुद्दों पर मुख्यमंत्री गहलोत को घेरा
-कांग्रेस के महान राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी ने राजस्थान के किसानों से 10 दिन में कर्जा माफ करने का वादा किया था, लेकिन पूरा नहीं किया : डॉ. सतीश पूनियां
-प्रदेश की कांग्रेस सरकार दुनिया की पहली सरकार है, जो महीनेभर से बाडे में बंद है, और मुख्यमंत्री बात करते हैं लोकतंत्र की : डॉ. सतीश पूनियां
-देश पर इमरजेंसी थोपने वाली कांग्रेस के पाप कैसे धुल जायेंगे, जब तक पीढ़ियां रहेंगी, जनता आपसे जवाब मांगती रहेगी : डॉ. सतीश पूनियां
-प्रदेश के 20 जिलों में टिडि्डयों के हमले से 90 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में फसलों को नुकसान हुआ : डॉ. सतीश पूनियां
-ऐसी सरकार को चलाकर करेंगे भी क्या, किसी से नजर नहीं मिलती, किसी से नजरिया नहीं मिलता : डॉ. सतीश पूनियां
-कांग्रेस ने प्रदेश को अपराध की दुनिया में धकेल दिया, महिला, दलित उत्पीड़न सहित विभिन्न अपराधों में हुई बढ़ोतरी: डॉ. सतीश पूनियां

जयपुर। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं आमेर विधायक डॉ. सतीश पूनियां ने विधानसभा में बोलते हुये मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं कांग्रेस सरकार को कोरोना कुप्रबंधन, किसान कर्जमाफी के नाम पर किसानों के साथ धोखा, टिड्‌डी से फसलों से हुये नुकसान, महिलाओं पर बढ़ते अपराध, एवं अन्य अपराध के मामलों को लेकर जमकर घेरा।


विधानसभा में डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि, राजस्थान की जनता ने बहुत सारे दृश्य कोरोनाकाल के कुप्रबंधन से लेकर अब पिछले एक महीने के दौरान कांग्रेस सरकार की फाइव स्टार बाडेबंदी के देखे, फेयरमाउंट की इटैलियन डिस, अंताक्षरी, संगीत संध्या, क्रिकेट इत्यादि मौज मस्ती भी प्रदेश की जनता ने देखी।

उन्होंने कहा कि, इस दौरान ऐसी चीखें भी थीं, जिसमें गैंगरेप, कोरोना से मौतों के मामले भी सामने आये, लेकिन सरकार का जनता से कोई सरोकार नहीं रहा, मुख्यमंत्री गहलोत अपने विधायकों को होटल के बाड़े में बंद रखकर सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करते रहे।


डॉ. पूनियां ने राज्य सरकार पर कटाक्ष करते हुये कहा कि, धन्यवाद दूंगा सूर्यगढ़ (जैसलमेर) के मांगणियार कलाकारों का, जिन्होंने बड़ी दिलेरी से होटल में कहा था, वेबफा तेरा यूं मुस्कराना, भूल जाने के काबिल नहीं..इन कलाकारों ने भी सरकार को आइना दिखाने का काम किया था।

उन्होंने कहा कि, दुनिया की यह पहली सरकार होगी, जो लगभग महीनेभर से बाडे में बंद रही और मुख्यमंत्री बात लोकतंत्र की कर रहे थे, और सरकार को बाड़े से चलाने का दिखाया किया जा रहा था, लेकिन इस दौरान प्रदेश में कोरोना तेजी से पैर पसारता रहा, अपराध तेजी से बढ़ते गये, जिनके आंकड़ों से पूरा प्रदेश वाकिफ है।


कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुये भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. पूनियां ने कि अशोक गहलोत बात लोकतंत्र की करते हैं, देश में सबसे पहले अनुच्छेद 356 का दुरुपयोग कांग्रेस सरकार ने किया था, सदन में और प्रदेश में ऐसे बहुत से लोग हैं, उनके पुरखे, पूर्वज एवं बुजुर्ग लोग 1975 में कांग्रेस द्वारा देश पर थोपे गये आपातकाल में जिल्लत का शिकार हुये, लोकतंत्र की बात करने वाली कांग्रेस ने देश के तमाम नेताओं एवं आंदोलनकारियों को 19 महीने तक जेल तक की यातना दी, जिसे कैसे भूल पायेंगे, आपके पाप कैसे धुल जायेंगे, जब तक पीढ़ियां रहेंगी, हिन्दुस्तान एवं प्रदेश की जनता आपसे जवाब मांगती रहेगी।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश की सभी कृषि विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में चार वर्षीय बीएससी


मुख्यमंत्री गहलोत को कठघरे में खड़ा करते हुये कहा कि, आप दंभ भरते हो जनमत का, 2008 और 2018 में यही दृश्य था, राजस्थान का जुगाड़ मशहूर है, उस जुगाड़ के लिए जादूगर भी मशहूर हैं, विधायकों को कभी बकरा बंडी बताते हो, कभी हॉर्स ट्रेडिंग करते हो, लेकिन आप तो पूरे हाथी को ही गटक गये, मुख्यमंत्री गहलोत एलिफेंट ट्रेडिंग के आविष्कारक हैं।

उन्होंने कहा कि साल 2018 के विधानसभा चुनाव में लोकलुभावन वादे करके प्रदेश के भोलेभाले किसानों को कांग्रेस के महान राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी ने जालोर की एक जनसभा में कहा था कि, सरकार बनने के 10 दिन के अंदर प्रदेश के किसानों का कर्जा माफ किया जायेगा, लेकिन कहां गया वादा, राजस्थान का किसान आपसे जवाब मांग रहा है, आज तक किसानों का कर्जा माफ क्यों नहीं किया? जवाब दीजिये प्रदेश के किसानों को।


प्रदेश में लंबित भर्तियों पर डॉ. पूनियां ने कहा कि, 25 से अधिक भर्तियां लंबित हैं, 4 हजार से अधिक पदों के मामले कोर्ट में अटके हैं, राजस्थान का बेरोजगार युवा आपसे जवाब मांग रहा है, लेकिन आपके पास जवाब नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि बढ़ते अपराधों के कारण राजस्थान के बारे में कहा जाने लगा कि यह अपराधों की राजधानी बनती जा रहा है, सालभर में 2 लाख से अधिक मुकदमे दर्ज हुये, भ्रष्टाचार के 445 दर्ज मामलों में 293 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, आप की नाक के नीचे भ्रष्टाचार हो रहा है।


प्रदेश में बढ़ते अपराधों को लेकर डॉ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने प्रदेश को अपराध की दुनिया में धकेला है, हत्या के मामलों में 106 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, प्रदेश में अपराध के मामलों में इन दो महीनों 80 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी हुई है।

उन्होंने कहा कि, हत्या का प्रयास के मामलों में 56 प्रतिशत की बढोतरी, डकैती के मामलों में 60 प्रतिशत की बढ़ोतरी, लूट के मामलों में 41 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी, अपहरण के मामलों में 128 प्रतिशत की बढ़ोतरी, दुष्कर्म के मामलों में 98 प्रतिशत की बढ़ोतरी, दंगों से संबंधित मामलों में 300 प्रतशित की बढ़ोतरी, रॉबरी के मामलों में 46 प्रतिशत बढ़ोतरी, चोरी के मामलों में 107 प्रतिशत की बढ़ोतरी, अन्य अपराधों में 77 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने कहा कि, गहलोत खुद को दलितों का हिमायती कहते हैं, लेकिन प्रदेश में दलित उत्पीड़न की वारदातें 92 प्रतिशत बढ़ीं हैं, एससी-एसटी उत्पीड़न की वारदातों में 100 प्रतिशत से अधिक बढ़ोतरी हुई।

यह भी पढ़ें :  विवि में आज दंडवत, थाली और हवन करेगी एबीवीपी

आपका सिर शर्म से झुक जायेगा, आप महिला हितैषी होने की बात करते हो, इन मामलों में 122 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, आपको प्रदेश की जनता को सड़क पर जवाब देना होगा।


डॉ. पूनियां ने कहा कि, देश में पहली बार 1957 में कम्यूनिस्ट पार्टी की सरकार को गिराने का काम तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने किया था, एक लंबी फेहरिस्त है चुनी हुई सरकारों को कांग्रेस द्वारा गिराने की, एक के बाद एक सरकारें गिराई जाने लगीं, जब एक के बाद एक सरकारें कत्ल होती गईं तो उस समय एक पूर्व प्रधानमंत्री ने उस समय के तत्कालीन गृहमंत्री से कहा था कि सरदारजी अब तो आप कृपाण आप अंदर रख लीजिये, कितनी सरकारें हलाल करेंगे।

चुनी हुई सरकारों को षड़यंत्रपूर्वक गिराने का खेल खेलने वाली कांग्रेस हमसे किस बात का जवाब मांगते हैं, दिखावे के लिये लोकतंत्र एवं नैतिकता की बात करते हैं।

प्रदेश में किसानों को हुये नुकसान पर कांग्रेस सरकार को घेरते हुये डॉ. पूनियां ने कहा कि, प्रदेश के 20 जिलों में टिडि्डयों ने हमला किया, जिससे 90 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में फसलों को नुकसान हुआ है, जब पता चला कि कांग्रेस सरकार एवं उसके विधायक जयपुर के फेयरमाउंट से जैसलमेर के सूर्यगढ़ पहुंच गये, तो जैसलमेर से आगे तो कोई जगह थी नहीं आगे जाने की, आप इतने निठल्ले हो गये थे, तो मैंने सैकड़ों पीपे भिजवाये थे, कि जिन्हें बजाकर कम से कम कुछ टिड्‌डी तो भगा सकते थे, लेकिन यह कार्य भी नहीं किया और ना ही किसानों की कर्जमाफी का वादा पूरा।


आज राजस्थान में कोरोना के 56 हजार से अधिक मामले हैं, इससे 800 से अधिक मौत हो चुकी हैं, जयपुर के एक सरकारी अस्पताल में कई मरीजों के ऊपर से कूदने के मामले सामने, कोटा सहित कई जिलों में तमाम मरीजों को सरकारी अस्पतालों में भर्ती नहीं करने के मामले सामने आये, एक जिले में बेटी अस्पताल में चीखती रही, कोरोना से जंग लडते हुये पिता दम तोड़ता रहा।

सरकार कोरोना प्रबंधन की बात करती है, लेकिन 29 मार्च को जो घटिया पीपीई किट खरीद हुई, एन 95 मास्क का सवाईमानसिंह अस्पताल से गायब होना, उनकी खरीद में अनियमितता होना, यह दर्शाता कि कोरोना काल में सरकारी सिस्टम में भ्रष्टाचार जमकर हुआ।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत की पौने दो साल में फितरत ऐसी रही कि, प्रदेश की जनता को राहत देने का कोई काम नहीं किया, प्रदेश में सभी विकास कार्य ठप्प पड़े हैं।

डॉ. पूनियां ने मुख्यमंत्री को कठघरे में खड़ा करते हुये कहा कि, खुद की भड़ास निकालने के लिये सदन को इस्तेमाल कर रहे हैं, अपनी भडास कहां निकालें, मन की बातें कहां निकालें जरिया नहीं मिलता, किसी से नजर नहीं मिलती, किसी से नजरिया नहीं मिलता, ऐसी सरकार को चलाकर करेंगे भी क्या, किसी से नजर नहीं मिलती, किसी से नजरिया नहीं मिलता।

यह भी पढ़ें :  जन्मदिवस से 3 दिन पहले सचिन पायलट का बड़ा एलान


उन्होंने कहा कि भाजपा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, गृहमंत्री अमित शाह जी पर झूठे आरोप लगाने से मुख्यमंत्री गहलोत प्रदेश की जनता की गई वादाखिलाफी के अपने पापों से छुप नहीं सकते, आप उन पापों को ढंक नहीं सकते, इस तरीके से सहकारी संघवाद का नारा लेकर, आप ही ने कहा था 8 करोड़ कि राजस्थान की जनता राजभवन को घेर लेगी, आपके पास जवाब है इसका, फिर आप पलटे क्यों ?


डॉ. पूनियां ने कहा कि, आपने प्रदेश की एसओजी, एसीबी और पुलिस को इंस्ट्रूमेंट की तरह इस्तेमाल किया, जिस तरह से आपने अपनी सरकार एवं विधायकों पर भरोसा नहीं किया, आपकी सरकार का 22 अप्रैल 2020 का ही आदेश था, जिसमें आपने दिल्ली में इंटेलीजेंस की यूनिट को स्थापित करने की बात कही थी, इसका मतलब आपको अपने ही लोगों पर भरोसा नहीं है, फिर यू टर्न पर यू टर्न, एसओजी ने एफआईआर दर्ज की फिर एफआर लगा दी, आपने 124 ए राजद्रोह का मामला विधायकों पर दर्ज करवाया, फिर वापस ले लिया, सरकार का इकबाल कहां है, जिस अपराधी जिस कथित विधायक को एसीबी ढूंढ रही थी, दूसरे दिन वही मुख्यमंत्री के यहां चाय पी रहा था, यह न्याय था क्या आपका बताइये ?


गहलोत पर निशाना साधते हुये डॉ. पूनियां ने कहा कि, गृहमंत्री के नाते आप उसी कथित अपराधी विधायक के घर पर नोटिस चस्पा करवाते हो, एसओजी एसीबी को पीछे लगाते हो, फिर उसी अपराधी को प्यार से चाय पिलाते हो, बिना जांच के आपने कौनसी अदालत स्थापित की, बताइये।

उन्होंने कहा कि सदन में आप संख्या सिर गिना सकते हो, यह लोकतंत्र की प्रकिया है एवं परंपरा है, लेकिन मुझे लगता है कि इससे पहले आपको अपने गिरेबान में झांकने की जरूरत है, आपकी पार्टी कांग्रेस पहले पूरे देश पर राज करती थी, 1885 की पार्टी है, आपको दर्द यह है कि आप सिर्फ साढे तीन राज्यों में सिमटकर रह गये, कश्मीर से कन्याकुमारी तक राज करते थे, क्यों हिन्दुस्तान की जनता ने नकार दिया, क्या इसके लिये मोदी जी दोषी हैं?

उन्होंने कहा कि, आपके अपने दल के लोग 1949 में आपको छोड़कर चले गये, नेताजी सुभाषचंद्र बोस चले गये, तो क्या भाजपा ने उनको कहा था छोड़ने के लिये? लंबी फेहरिस्त है शरद पवार से लेकर ममता बनर्जी तक, ये लोग आपकी अपनी पार्टी के थे, यह क्या भाजपा की सियासत थी?

उन्होंने कहा कि, आपको तकलीफ यह है कि विचार एवं व्यवहार के नाते, आज कांग्रेस पार्टी का विचार भ्रष्टाचार का विचार है, राष्ट्रवाद के खिलाफ का विचार है, बेरोजगारों का दमन करने का विचार है, किसानों के साथ धोखा कर उनसे झूठ बोलने का विचार है, ऐसी नकारा एवं निकम्मी सरकार को सरकार में रहने का कोई हक नहीं है।